ये अभ्यर्थी दोबारा पास करेंगे टीईटी!

0

IBPS_exams

इलाहाबाद। प्रदेश की अखिलेश सरकार ने जूनियर टीईटी पास बीएड अभ्यथियों के लिए कोई विकल्प नहीं ढ़ूढ़ा गया है। इन सैंकड़ों टीईटी पास अभ्योर्थियों के पास सिर्फ एक विकल्प बचता है और वह है दोबारा टीईटी की परीक्षा पास करना।

तो खो देंगे योग्‍यता
आने वाले साल 2016 में जूनियर स्टैंडर्ड के लिए टीईटी पास करने वाले अभ्यर्थियों का पांच साल पूरा हो रहा है। ऐसे में ऐसे में जूनियर टीईटी भाषा के अभ्यर्थी बिना किसी चयन में शामिल हुए योग्यता खो देंगे।

अंधकार में भविष्य 
पूरे प्रदेश में 2.50 लाख बीएड बेरोजगार जूनियर स्तर के लिए टीईटी पास करके बैठे हैं। इसमें 29 हजार टीईटी पास विज्ञान वर्ग के अभ्यर्थियों की ही भर्ती हो सकी है। अभ्यर्थियों ने सरकार से उनके बारे में नीति स्पष्ट करने की मांग भी है। सरकार के असमंजस से टीईटी पास अभ्यर्थियों का भविष्य अंधकारमय बना है।

यह है नियम
नियम के मुताबिक अभी तक प्राथमिक विद्यालयों से शिक्षकों को प्रमोशन देकर उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तैनाती दी जाती रही है। प्राथमिक विद्यालयों में सरकार की ओर से बीटीसी और विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त बीएड बेरोजगारों की नियुक्ति करने का नियम है।

जूनियर के लिए अभी तक नहीं जारी हुई सूचना
बात अगर बदली व्यवस्था के अनुसार करें तो अब प्रदेश सरकार से एनसीटीई की सिफारिश पर टीईटी अनिवार्य कर दिया गया है। टीईटी अनिवार्य किए जाने के बाद सरकार ने प्राथमिक और जूनियर टीईटी परीक्षा का विकल्प दिया था। इसमें प्राथमिक विद्यालयों में चयन के लिए तो सरकार की ओर से प्राथमिक टीईटी पास बेरोजगारों को भर्ती का विकल्प देने की बात की जा रही है, जबकि जूनियर टीईटी के लिए कोई सूचना जारी नहीं हुई है।

करना होगा परिवर्तन
जूनियर टीईटी पास बेरोजगारों की नियुक्ति के लिए सरकार को प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों की चयन नियमावली में परिवर्तन करना होगा। बीएड बेरोजगार जूनियर स्तर के अभ्यर्थियों ने सरकार से उनके बारे में नीति स्पष्ट करने की मांग भी की है। सरकार की ओर से मात्र 29334 विज्ञान-गणित शिक्षकों की नियुक्ति ही टीईटी पास अभ्यर्थियों में से हो सकी है।

loading...
शेयर करें