राज्‍यसभा में #JuvenileJusticeBill पास, अब 16 साल के रेपिस्‍ट को रिहाई नहीं

parliament_2666854gनई दिल्ली। लम्‍बी चर्चा के बाद राज्‍यसभा में जुवेनाइल जस्टिस बिल ध्‍वनिमत से पारित कर दिया गया। इस दौरान निर्भया यानी ज्‍योति की मां आशा देवी और उसके पिता भी मौजूद थे। सात महीने से यह बिल राज्‍यसभा में अटका पड़ा था।

इससे पहले कांग्रेस ने भी बिल पर समर्थन देने की बात कही थी। इसके बाद उम्‍मीद जताई जा रही थी कि सरकार इस बिल को सदन में पेश करेगी।

दोपहर में सरकार ने बिल पेश कर दिया। इससे पहले निर्भया के माता पिता ने संसदीय कार्य राज्‍य मंत्री मुख्‍तार अब्‍बास नकवी से भी मुलाकात की। इस मुलाकात में बिल को लेकर दोनों के बीच चर्चा हुई।

राज्यसभा में चर्चा के दौरान कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि नाबालिग की उम्र को लेकर एक राय नहीं है। लेकिन हमें इस बात का ध्यान रखना पड़ेगा कि अपराधी नाबालिगों का गलत इस्तेमाल भी कर सकते हैं। आजाद ने कहा कि जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड को और अधिकार देने चाहिए। उन्होंने जेलों में सुधार की वकालत करते हुए कहा कि जेलों में अपराधियों को शिक्षित करने का भी एक सिस्टम होना चाहिए। उन्हें अपनी जिदंगी में सकारात्मक बदलाव लाने का मौका दिया जाना चाहिए। महिला एंव बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा कि यह बोर्ड तय करेगा कि अपराध के वक्त नाबालिग की मानसिकता बालपन की थी या वयस्क।

सदन में पेश होने वाले नए बिल में रेप, मर्डर और एसिड अटैक जैसे गंभीर अपराधों में शामिल नाबालिगों पर भी बालिगों की तरह ही कानूनी कार्रवाई की बात कही गई है। इस बिल में नाबालिग की उम्र सीमा 18 साल से 16 साल करने की भी मांग है।

इसको लेकर निर्भया की मां ने कहा कि अगर यह बिल 5 से 6 दिन पहले पास हो गया होता तो दोषी आज बाहर नहीं होता। हमें कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी जी ने भी आश्वासन दिया है कि हम बिल को पास करवाएंगे। वहीं बीजेपी नेता निर्मला सीतारमण ने कहा कि आज जुवेनाइल बिल पास हो जाना चाहिए। आरोप-प्रत्यारोप का अब समय नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button