काबुल में यूनिवर्सिटी के पास आतंकी ब्लास्ट, 9 छात्रों की दर्दनाक मौत, 33 घायल

0

काबुल: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल शक्रवार को एकबार फिर बम धमाकों से दहल उठी। यहां अफगान यूनिवर्सिटी के पास एक बड़ा धमाका हुआ। इस आतंकी हमले में अबतक 9 छात्रों की मौत हो चुकी है। वहीं 33 लोग घायल बताए जा रहे हैं। अफगानिस्तान के सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता वाहिदुल्लाह मायर ने इस घटना का पुष्टि की है। अफगान सुरक्षा बलों को तालिबान आतंकवादियों द्वारा हर रोज़ हमलों का सामना करना पड़ रहा है। बावजूद इसके कि अफगानिस्तान के लगभग 18 साल के युद्ध को समाप्त करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रयासों में प्रगति हुई है।

शुक्रवार को हुए धमाके की जिम्मेदारी के बारे में तत्काल कोई दावा नहीं किया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता वाहिद मेयर ने कहा कि विस्फोट के बाद 27 छात्रों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। एक चश्मदीद और एक आंतरिक मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि कार में विस्फोट के बाद आग लग गई। काबुल में इस तरह के धमाके बेहद आम हैं। जहाँ विद्रोही अक्सर वाहनों के नीचे विस्फोटक चिपका देते हैं। काबुल पुलिस के प्रवक्ता फ़रामाज़ फ़िरदौस के मुताबिक एक पुलिस दल ने विस्फोट स्थल के पास रखे एक दूसरे बम को डिफ्यूज कर दिया। गुरुवार को कांधार में पुलिस हेडक्वॉर्टर पर हुए हमले के बाद अफगानिस्तान में यह लगातार दूसरे दिन हुआ हमला है।

कांधार में पुलिस हेडक्वॉर्टर पर आतंकी हमला

इससे पहले गुरुवार को दक्षिण कांधार प्रांत में पुलिस मुख्यालय में हुए तालिबान के हमले में करीब 12 लोगों की मौत हो गई और 90 लोग घायल हो गए। हमले के चश्मदीदी ने बताया कि यह हमला उत्तरी गेट में अफगान समय के मुताबिक 4 बजकर 35 मिनट पर हुआ। विस्फोट के कारण कई नागरिकों की भी मौत हो गई। विस्फोट होने से स्थानीय लोगों में दशहत मच गई और कई दूर तक धुंआ छा गया। इस विस्फोट के कारण आस-पास की कई इमारतें और गाड़ियों को भारी नुकसान पहुंचा है। इस हमले में दो पुलिस अधिकारी, आठ नागरिक और दो हमलावरों की मौत हो गई। सुरक्षा सूत्रों के मुताबिक इस हमले में 90 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। अधिकारियों के अनुसार हमले में घायल हुए लोगों की संख्या बढ़ सकती है। इस हमले की जिम्मेदारी तालिबान आतंकी संगठन ने ली है। प्रांत में पिछले कुछ महीनों में सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों के खिलाफ कई अभियान चलाए हैं। लेकिन इसके बावजूद प्रांत में लगातार आतंकी हमले हो रहे हैं।

loading...
शेयर करें