तमिलनाडु में शराब को बैन करने पर कमल हासन ने दिया चौंकाने वाला बयान, शुरू हुई राजनीति

0

चेन्नई। देश के कई राज्यों में शराब पूरी तरह से बैन है। जैसे बिहार और गुजरात में शरीब नहीं बिक सकती है। अब कई राज्यों में शराब बैन को लेकर चर्चा चल रही है। जिसमें से एक तमिलनाडु भी है। लेकिन इससे पहले ही इसपर भी बयानबाजी शुरू हो गई है। अभिनेता से राजनेता बने कमल हासन की पार्टी मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) किसी भी चीज पर पूर्ण रूप से रोक लागू करने में विश्वास नहीं रखती है क्योंकि इससे और ज्यादा हानि हो सकती है। उन्होंने कहा कि पार्टी चुनावी रेवड़ियां बांटने में भी विश्वास नहीं रखती है।

कमल हासन

शराब की दुकानों को इस तरह फैलने देने चाहिए या नहीं

कमल हासन ने कहा, सवाल यह है कि शराब की दुकानों को इस तरह फैलने देने चाहिए या नहीं। हमें डाकखाने की तलाश में इधर-उधर घूमना पड़ता है लेकिन तमिलनाडु सरकार की शराब की दुकानों को ढूंढने के लिए आपको कही जाने की जरूरत नहीं है। हमें इस स्थिति को बदलना होगा। कमल का यह बयान उस वक्त आया है जब तमिलनाडु में बड़े विपक्षी दल राज्य में शराब की बिक्री पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं।

शराब पीना जुए जैसा नहीं है कि जिसे अचानक बंद किया जा सके

तमिल पत्रिका आनंद विकातन में अपने अंतिम स्तंभ में कमल ने गुरुवार को कहा कि यह संभव नहीं है कि समूचे समाज को शराब से नफरत करने के लिए राजी किया जाए। कमल ने कहा कि पूर्ण रूप से प्रतिबंध के परिणामस्वरूप माफिया का उदय होगा, जैसा कि दुनिया के इतिहास में पहले भी देखा गया है। उन्होंने कहा कि शराब पीना जुए जैसा नहीं है कि जिसे अचानक बंद किया जा सके।

मानव का शरीर शराब पीने से खुद को अचानक नहीं रोक सकता

कमल ने कहा कि मानव का शरीर शराब पीने से खुद को अचानक नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा कि शराब पीना कम किया जा सकता है लेकिन इस पूरी तरीके से रोकना संदेहात्मक है। उनके मुताबिक, महिला मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए राजनीतिक दल शराब पर प्रतिबंध लगाने का कार्ड खेलते हैं। कमल ने कहा कि स्कूलों के पास शराब की दुकानें खोलना एक खेल है, जो उनके लिए चिंताजनक है।

loading...
शेयर करें