पार्टी देने के लिए मरीजों को नाली के पास लिटा दिया

doctor-banner

कानपुर। महानगर के हैलट अस्पताल का बुरा हाल है। रोज कोई न कोई ऐसा कारनामा होता है जिसका खामियाजा बेचारे मरीजों को भुगतना पड़ता है। दो दिन पहले तीमारदारों की पिटाई के बाद जूनियर डॉक्टरों द्वारा हड़ताल का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि अब दो कर्मचारियों की विदाई पार्टी मनाने को मरीजों को ही वार्ड से विदा कर दिया गया। सबसे आश्चर्य की बात तो ये है कि जानकारी के बाद अस्पताल प्रशासन फिर से अपने पुराने रवैये के अनुसार जांच कराने की बात कह पल्ला झाड़ रहा है। जिससे डॉक्टर व कर्मचारियों की संवेदनहीनता स्पष्ट होती है।

यह भी पढ़ें:‘ये भगवान’ तो इंसान कहलाने के लायक नहीं

मरीजों ने दी दुहाई
हैलट के सर्जरी वार्ड नंबर छह के मरीजों को सुबह ही कर्मचारियों ने हटाना शुरू कर दिया। तीमारदार मरीजों के गम्भीर होने की दुहाई दी तो उन्हें भगाने की धमकी देकर हटा दिया गया। कोई मरीज बरामदे में तो कोई नाली के पास पड़े बेड पर लेटने को मजबूर हुआ। वार्ड में आंत का आपरेशन कराये निखिल, ढकनापुरवा निवासी शमशाद अली व पैर कटने की वजह से भर्ती फतेहपुर के पवन त्रिवेदी ने बताया कि बहुत परेशानी हुई है। पार्टी रिटायर हुए वार्ड ब्वाय भूरे लाल व जगदीश को विदाई देने के लिए आयोजित हुई थी। यह कार्यक्रम करीब डेढ़ घण्टे चला।

यह भी पढ़ें:  दो मरीजों की मौत के बाद खत्म हुई डॉक्टरों की हड़ताल

सीनियर्स ने दी अनुमति
वार्ड छह की सिस्टर अनीता ने बताया कि मरीजों को हटाकर कार्यक्रम की अनुमति सीनियर्स डॉक्टरों व अधिकारियों ने दी थी।

क्या कहते हैं जिम्मेदार
हैलट के मुख्य चिकित्साधीक्षक सीएस सिंह का कहना है कि वार्ड में विदाई समारोह आयोजित करने के लिए अनुमति देने का सवाल ही नही उठता। यह कैसे हुआ मैट्रन और सिस्टर से पूछताछ करूंगा।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button