कानपुर : पुराने नोट बदलने का चल रहा था खेल, पुलिस ने जब्त किए 100 करोड़ के नोटों के बिस्तर

0

कानपुर। करीब 14 महीने पहले मोदी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए नोटबंदी जैसा कड़ा नियम लागू किया था। जिसके चलते पब्लिक ने तमाम परेशानियां उठाते हुए सरकार के इस फैसले में उसका साथ दिया। लेकिन अब जो खबर आ रही है उससे सरकार का ये कदम विफल होता नजर आ रहा है। यूपी के कानपुर शहर में छापेमारी के दौरान पुलिस ने करीब 100 करोड़ के पुराने नोट जब्त किए हैं। इतनी बड़ी मात्रा में पुराने नोट देखकर प्रशासन भी हैरान रह गया। अब विस्तार से इसकी जांच की जा रही है कि आखिर किस तरीके से पुराने नोटों का लेनदेन या बदलाव की प्रक्रिया चल रही है। पुलिस पकड़े गए लोगों से पूछताछ कर रही है।

यूं पकड़े गए पुराने नोट

आईजी क्राइमब्रांच की सूचना पर कानपुर शहर के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने शहर के स्वरुप नगर, गुमटी, जनरलगंज व अस्सी फिट रोड स्थित कुछ व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर छापा मारा। छापेमारी के दौरान पुलिस को अलग-अलग कमरों में नोटों से सजे हुए तीन बिस्तर देखने को मिले। इतनी बड़ी मात्रा में पुराने नोट निकलने की उम्मीद पुलिस को भी नहीं थी। नोटों की गिनती जारी कर आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया। नोटों की गिनती अभी भी जारी है लेकिन कुल धनराशि 100 करोड़ से ऊपर होने की संभावना जताई जा रही है।

एनआरआई कोटे से बदले जाने थे पुराने नोट,कई बडी हस्तियां गिरफ्तार

पकड़े गए लोगों से पुलिस को शुरूआती पूछताछ में पता चला है कि रकम हवाला के जरिये दुबई और अमेरिका भेजी जानी थी, फिर एनआरआई कोटे से इसे बदला जाना था। लेकिन मनी एक्सचेंज का पूरा खेल अभी सामने आना बाकी है। आयकर नियमों के मुताबिक पुरानी करेंसी रखने के आरोपियों को बरामद करेंसी का पांच गुना जुर्माना देना होगा और जेल जाना होगा। जुर्माना न देने पर उनकी चल अचल सम्पत्ति से रिकवरी की जाएगी।

छापेमारी में शहर के एक नामी गिरामी बिल्डर, कपड़ा व्यवसायी, हैदराबाद और पूर्वान्चल के मनी एक्सचेन्जर समेत दस लोगों को पुराने नोटों की इस बड़ी रकम के साथ पकडा गया है। इनमें बिल्डर आनन्द खत्री, मोहित नाम का एक युवक और एक प्रोफेसर शामिल है। पुलिस ने इस बात पर संदेह व्यक्त किया है कि गिरफ्तार किए गए लोगों में से एक शख्स का रिश्तेदार का आरबीआई में काम करता है। पुलिस सूत्रों के अनुसार पुलिस इस मामले में सरकारी अधिकारयों के शामिल होने की दिशा में भी जांच कर रही है।

इससे पहले यूपी के मेरठ में भी पकड़े जा चुके हैं पुराने नोट

इससे पहले मेरठ में भी बड़ी संख्या में नकली नोट पकड़े जा चुके हैं। मेरठ पुलिस ने परतापुर थाना इलाके के राजकमल एन्क्लेव में प्रोपर्टी डीलर और बिल्डर संजीव मित्तल के मकान में बने एक ऑफिस से लगभग 25 करोड़ रुपए की पुरानी करेंसी बरामद की थी। मौके से चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने बताया था कि संजीव इस पैसे को एक नामी तेल कम्पनी के ज़रिये आरटीजीएस करना चाहते थे।

एसएसपी ने दिया मामले पर बयान

एसएसपी अखिलेश कुमार ने इस पूरे मामले पर बयान देते हुए कहा कि ‘पुराने नोटों की बड़ी खेप पकड़ी गई है। मामले की जांच पड़ताल की जा रही है। शहर में पकड़े गए लोगों के अन्य प्रतिष्ठानों पर भी छापेमारी की जा रही है। आयकर विभाग के अधिकारी भी जांच कर रहे हैं। रकम की गिनती चल रही है। कुल बरामद रकम की सही स्थिति बुधवार तक स्पष्ट हो सकेगी।

loading...