पत्नी की हत्या के आरोप में काटी जेल की सजा, वही पत्नी 7 साल बाद दिखी बॉयफ्रेंड के साथ..

ओड़िशा के केंद्रपाड़ा में एक ऐसी घटना हुई, जिसने सभी को हैरान कर दिया. 2013 में पत्नी की हत्या के केस में जेल जा चुके पति ने साल साल बाद आखिरकार पुलिस की मदद से उसे खोज निकाला. उसकी पत्नी प्रेमी के साथ मिली और इसी के साथ फर्जी केस का खुलासा हुआ. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, अभय सुतार ने 7 फरवरी, 2013 को इतिश्री मोहराना से शादी की. अभय केंद्रपाड़ा के चुलिया गांव के मूल निवासी हैं. कथित तौर पर, इतिश्री को अभय से शादी करने के लिए मजबूर किया गया था.

शादी के लगभग दो महीने बाद, इतिश्री लापता हो गई और अभय ने पुलिस से संपर्क किया. 20 अप्रैल, 2013 को, अभय ने पटकुरा पुलिस के पास अपनी पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराई. 14 मई 2013 को, इतिश्री के पिता प्रहलाद मोहराना ने एक जवाबी शिकायत दर्ज कराई जिसमें दावा किया गया था कि अभय ने उनकी बेटी को दहेज के लिए प्रताड़ित किया था. अपनी शिकायत में, प्रहलाद ने दावा किया कि अभय ने उसकी बेटी को मार डाला और उसका शव फेंक दिया था.

जवाबी शिकायत दर्ज करने के बाद, पुलिस ने अभय को गिरफ्तार कर लिया. एक महीने के बाद, अभय को जमानत पर रिहा कर दिया गया. उसने अपनी पत्नी की तलाश शुरू कर दी क्योंकि उसे शक था कि उसकी पत्नी भागी है. अभय अपनी पत्नी के बारे में जानकारी एकत्र करने में कामयाब रहा और उसे पता चला कि वह अपने बॉयफ्रेंड के साथ पिपली में रह रही थी.इतिश्री के स्थान के बारे में जानने के बाद, अभय ने पुलिस को फोन किया और उन्हें सूचित किया. पुलिस अभय को पिपली के पास ले गई और इतिश्री को उसके बॉयफ्रेंड के साथ गिरफ्तार कर लिया.
महिला के बॉयफ्रेंड की पहचान राजीव लोचन मोहराना के रूप में की गई है.पटकुरा पुलिस के साथ तैनात एक वरिष्ठ अधिकारी सुजीत प्रधान ने द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, “दोनों को सोमवार को अदालत में पेश किया गया था. अपने बयान में, इतिश्री ने कहा कि वह शादी से पहले राजीव के साथ अफेयर में थी.  लेकिन उसके माता-पिता ने उसे अभय से शादी करने के लिए मजबूर किया.जांच से पता चला है कि इतिश्री और राजीव शुरू में गुजरात चले गए और लगभग सात साल तक वहां रहे. हाल ही में यह जोड़ी ओडिशा लौटा था. इतिश्री और राजीव के दो बच्चे भी हैं

Related Articles