‘सेप्टिक टैंकों की सफाई में हो रही मौतों के लिए केजरीवाल सरकार जिम्मेदार’

 

सेप्टिक टैंकों
सेप्टिक टैंकों

नयी दिल्ली: दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने राजधानी में बीते करीब 10 दिनों में हुई दो अलग-अलग दुर्घटनाओं में सेप्टिक टैंक की सफाई के दौरान चार लोगों की मौत और पांच लोग घायल होने के लिए अरविंद केजरीवाल सरकार को पूरी तरह जिम्मेदार ठहराया है और मुख्यमंत्री से मृतकों के परिजनों को तुरंत एक-एक करोड़ रुपये तथा घायलों को 50-50 लाख रुपये का मुआवजा दिलाने की मांग की है.

बिधूड़ी ने कहा बीते 10 अक्टूबर को दक्षिण दिल्ली के बदरपुर क्षेत्र के मोलड़बन्द में सेप्टिक टैंक सफाई के दौरान दो लोगों की मौत हो गई जबकि एक व्यक्ति गम्भीर रूप से घायल हो गया. दूसरी घटना रविवार को आजादपुर में हुई जिसमें दो लोगों की जान चली गई जबकि चार अन्य लोग घायल हो गए.

बिधूड़ी ने केजरीवाल को आज लिखे एक पत्र में उन्हें दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले सेप्टिक टैंकों की मुफ्त सफाई के लिए दिल्ली सरकार द्वारा शुरू की जाने वाली योजना से संबंधित उनकी घोषणा की याद भी दिलाई है. उन्होंने कहा है कि 15 नवम्बर, 2019 को मुख्यमंत्री ने बाकायदा एक प्रेस वार्ता आयोजित कर ‘मुख्यमंत्री सेप्टिक टैंक सफाई योजना’ का ऐलान किया था.

उन्होंने कहा था कि दिल्ली सरकार सभी अनधिकृत कालोनियों में सेप्टिक टैंकों मशीन से मुफ्त में सफाई कराएगी. इसके लिए शुरुआती तौर पर 80 ट्रकों की तैनाती की जानकारी भी मुख्यमंत्री ने साझा की थी. उन्होंने यह भी बताया था कि इस योजना पर करीब 150 करोड़ रुपये खर्च होंगे. इस योजना के तहत सफाई के लिए सम्पर्क करने हेतु मोबाइल नम्बर भी जारी करने की बात मुख्यमंत्री ने बताई थी. लेकिन सच्चाई यही है कि दिल्ली की सत्ता मिलने के बाद उन्होंने इस योजना को लागू करना जरूरी नहीं समझा. यदि यह योजना लागू कर दी गई होती तो आज ऐसे दर्दनाक हादसे नहीं होते. जाहिर तौर पर केजरीवाल सरकार ऐसे तमाम हादसों के लिए जिम्मेदार है.

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री को आज यह बताना चाहिए कि आखिर उपरोक्त योजना को अभी तक क्यों नहीं लागू किया गया. वे मशीनें और ट्रक कहाँ हैं और 150 करोड़ रुपये के बजट का क्या हुआ. उन्होंने केजरीवाल से सभी कच्ची कालोनियों सहित समूची दिल्ली में ‘मुख्यमंत्री सेप्टिक टैंक सफाई योजना’ को तुरंत लागू करने की मांग की और कहा कि वे अपनी घोषणा के अनुरूप इलेक्ट्रॉनिक व प्रिंट मीडिया के माध्यम से वह मोबाइल नम्बर भी जारी करें, जिस पर दिल्ली के लोग सेप्टिक टैंक की सफाई के लिए सम्पर्क कर सकें.

यह भी पढ़े: अफगानिस्तान के बगलान प्रांत में विफल हमला, सेना की कार्रवाई में सात आतंकवादी ढेर

Related Articles