केरल: भारी बारिश के चलते 12 जिलों में रेड अलर्ट, हवाई और रेल सेवा ठप

मॉनसून की भारी बारिश परवान चढ़ कर केरल में अपना कहर दिखा रही है। बादलों की गड़गड़ाहट और बारिश की टिप-टिप से केरल दहल उठा है।  बारिश के पानी ने केरल के लगभग 14 जिलों को अपने आगोश में ले लिया है। बारिश का भयानक कहर कुछ लोंगों की जान पर बरस गया है। इस भयावह बारिश के चलते 12 जिलों में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है।

केरल: भारी बारिश के चलते 12 जिलों में रेड अलर्ट, हवाई और रेल सेवा ठप

बारिश का कहर …

भारी बारिश ने अबतक कई लोगों की जान ले चुकी है। ऊपर वाले के इस कहर से केरल सराबोर हो चुका है। केरल ही नहीं बल्कि कई अन्य जगहों में भी जनजीवन अस्त- व्यस्त हो गया है।  जम्मू-कश्मीर में बादल फटने से एक व्यक्ति अपनी जान से हाथ धो बैठा है। वहीं ओड़ीसा में जनजीवन बेहाल हो गया है।  लोग दाने-दाने के मोहताज होते नज़र आ रहे हैं।

बारिश का खासा असर हवाई अड्डों पर भी देखने को मिला है। परिसर में पानी घुस जाने के कारण कोच्चि हवाई अड्डा पर 18 अगस्त तक विमानों का परिचालन बंद कर दिया गया है और विमानों को अन्य हवाई अड्डों पर जाने का निर्देश दिया गया है।

हवाई अड्डों पर परिचालन बंद …

एयरवेज़ में शामिल इंडिगो, एयर इंडिया और स्पाइस जेट ने कोच्चि हवाई अड्डा से अपना परिचालन बंद करने की घोषणा की है। इंडिगो ने ट्वीट कर टिकट कैंसिल कराने के लिए bit.ly/2ndGnZ8 पर लॉन ऑन करने को कहा है जबकि एयर इंडिया ने कोच्चि हवाई अड्डे से जाने आने वाले विमानों के टिकट कैंसिल कराने के लिए #airindia call centre या  #airindia website पर संपर्क करने को कहा है।

ट्रेन सेवाएं ठप….

हवाई सेवाएं ही नहीं बल्कि ट्रेन सेवा भी ठप पड़ी हैं। रेल सूत्रों के अनुसार, भूस्खलन के कारण कुझिथुराई और इरानियल स्टेशनों पर चार ट्रेनों- गुरुवायूर-चेन्नई इग्मोर एक्सप्रेस, कन्याकुमारी- मुंबई सीएसएमटी एक्सप्रेस, डिब्रूगढ़-कन्याकुमारी विवेक एक्सप्रेस और गांधीधाम- तिरुनेलवेली हमसफर एक्सप्रेस को रोक दिया गया है। कुछ पैसेंजर गाड़ियां ख्रराब मौसम के कारण कोल्लम-पुनालुर-सेनगोट्टाई खंड पर रोक दी गई हैं और कुछ को आंशिक तौर पर रोका गया है।

अथिराप्पल्ली, पोनमुदी और मन्नार पर्यटन स्थलों को बंद कर दिया गया है। शहर के निचले इलाके गोवरीसपट्टोम में कम से कम 18 परिवार चारों ओर से बाढ़ में फंसे हुए हैं। पुलिस और फायर सर्विस के कर्मी इन्हें बाहर निकालने की हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। इनमें से कई लोग तो दोमंजिले मकान की छत पर शरण लिए हुए हैं।

मौसम वैज्ञानिक के मुताबिक, तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, अलप्पुझा, पथनमथित्ता, कोट्टायम, इडुक्की, एर्नाकुलम, त्रिशूर और कोझिकोड जिलों में 60 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से धूल भरी आंधी आने का अनुमान व्यक्त किया गया है। उत्तर में कासरगोड से लेकर दक्षिण में तिरुवनंतपुरम तक सभी नदियां उफान पर है और मुल्लपेरियार सहित कई बांधों का फाटक खोल दिया है।

बारिश के ऐसे मंज़र को मद्देनजर और मौसम सूत्रों के अनुसार स्थिति और भी गंभीर हो सकती हैं।  लोगों को अलर्ट कर दिया गया है, ताकि वे आने वाली मुसीबत का सामना या उससे बच पाएं।

Related Articles