विजयन सरकार की चूक से हुई केरल त्रासदी- ओमन चांडी

0

तिरुवनंतपुरम: केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने केरल में हुई ऐतिहासिक त्रासदी के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। चांडी ने कहा है कि मौजूदा पिनराई विजयन सरकार भारी बारिश और बाढ़ की स्थिति का सही अनुमान नहीं लगा सकी, जिसके चलत राज्य में भयानक बाढ़ आई। उन्होंने बताया कि हालांकि, यह त्रासदी को राजनीतिक रंग देने का समय नहीं है, फिर भी वह यह कहने के लिए मजबूर है, जिसका संकेत खुद मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने दिया है।

चांडी ने कहा, “चूंकि मानसून का मौसम मई के अंत में शुरू हुआ था, इसलिए केरल के तीन हिस्सों में भारी बारिश हुई और इसके लिए बुनियादी योजना प्रक्रिया होनी चाहिए थी, लेकिन किसी कारण से ऐसा नहीं हुआ और इसलिए त्रासदी ने राज्य को बुरी तरह से प्रभावित किया।” मानसून ने मई के आखिरी सप्ताह में दस्तक दी थी और अगस्त के दूसरे सप्ताह तक तीनों भागों में भारी बारिश हुई।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, “यह भारी चूक तब हुई जब सरकार बारिश के स्वरूप के अनुसार काम नहीं कर सकी। अंत में, यह कहना आसान है कि इसे इस तरह से किया जाना चाहिए था और इस तरह से नहीं, लेकिन यह उस स्थिति में है, जहां सारे आकलन गड़बड़ हो गए। ” राज्य के इतिहास में पहली बार, पिछले तीन महीनों के दौरान भारी बारिश के कारण 26 वर्षों के बाद इडुक्की बांध समेत 33 बांधों के द्वार खोलने पड़े।

चांडी ने कहा कि चूंकि इडुक्की बांध को पहले नहीं खोला गया था और अधिकारी अंतिम मिनट तक इंतजार करते रहे। इसिलए, वे स्थिति सही से नहीं संभाल पाएं, जिसके चलते जान-माल का काफी नुकसान हुआ। बारिश और बाढ़ की घटनाओं में मरने वालों की संख्या अब 417 हो गई है। सैकड़ों लोगों ने राहत शिविरों से घर लौटना शुरू कर दिया है। अनुमान है कि बाढ़ से हुई तबाही के चलते राज्य को करीब 35 हजार करोड़ का नुकसान हुआ है।

loading...
शेयर करें