KGMU अस्पताल ने कनिका कपूर का प्लाज्मा लेने से किया इंकार, बताई यह वजह

लखनऊ. कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर विवादों में आयी मशहूर बालीवुड गायिका कनिका कपूर की फैमिली हिस्ट्री को देखते हुए डॉक्टरों ने उनका प्लाज्मा लेने से इंकार कर दिया है. किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) की ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की अध्यक्ष डॉ. तूलिका चंद्रा ने मंगलवार को बताया, ‘गायिका कपूर ने जो अपनी ‘फैमिली हिस्ट्री’ (परिवार की चिकित्सा संबंधी जानकारी) बतायी है, उसे देखते हुए अस्पताल ने क़ोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज के लिए फ़िलहाल उनका प्लाज़्मा लेने से इनकार कर दिया है.’’

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि फैमिली हिस्ट्री की जानकारी मीडिया को नहीं दी जा सकती क्योंकि यह नियमों के खिलाफ है. हालांकि, उन्होंने कहा कि भविष्य में शोध के लिये कनिका का प्लाज्मा लेने पर विचार किया जा सकता है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने के बाद कनिका कपूर ने 27 अप्रैल को कोरोना रोगियों के इलाज के लिये अपना प्लाज्मा दान करने का फैसला किया था.

कनिका कपूर की छठवीं रिपोर्ट नेगेटिव आई थी
दरअसल,मार्च महीने में सिंगर कनिका कपूर को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था. उनकी लगातार पांच जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थीं. लेकिन बीते 6 अप्रैल को उनकी छठवीं रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. इसके बाद वो ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो गई. लेकिन इसके बाद भी उन्हें डॉक्टर्स ने एक काम करने की हिदायत दी थी. तब डॉक्टर्स ने उन्हें 14 दिनों के लिए फिलहाल, सेल्फ आइसोलेशन में रहने की सलाह दी थी. यानी घर जाकर भी उन्हें बाकियों को कोरोना से सुरक्षित रखने के लिए खुद को दो हफ्तों तक क्वारंटाइन में रखना था.
9 मार्च को लंदन से वापस आईं थीं
बता दें कि कनिका कपूर 9 मार्च को लंदन से वापस आईं थीं, जिसके बाद 20 मार्च को उन्होंने खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की बात सार्वजनिक की थी. इसके बाद उनपर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर छुपाने और लापरवाही बरतने के आरोप लगने लगे थे. हालांकि, सिंगर का कहना है कि जब वह भारत वापस आईं थीं, तो देश में सेल्फ आईसोलेशन जैसी कोई व्यवस्था लागू नहीं की गई थी. इसके बाद लगातार चार कोरोना टेस्ट में वो संक्रमण से पॉजिटिव पाई गई थीं.

Related Articles