Kia Seltos और Hyundai Creta में जबरदस्त टक्कर, No.1 बनने से रह गई बस इतना पीछे

नई दिल्ली : जनसख्या बढ़ने के साथ ही भारत में वाहनों की मांग भी तेजी के साथ बढ़ रही है, बाजार में लगातार नई- नई वैरायटी की गाड़ियों के आ जाने से ग्राहकों को भी अपनी सुविधानुसार वाहनों की खरीददारी में आसानी हो रही है। वहीं वाहन कंपनियां कस्टमर को आकर्षित करने के लिए नए- नए फीचर्स के साथ वाहनों को आधुनिक बना रहीं हैं। जनसख्या की दृष्टि से भारत दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है, इसलिए सभी कंपनियां चाहती है भारतीय बाजार (Indian market) पर कब्ज़ा करना, इसी के तहत साउथ कोरियन (South Korean) कंपनी Kia Motors अगस्त 2019 में बी भारतीय बाजार में दस्तक दी थी।

कंपनी ने डेढ़ साल से भी कम समय में ही भारतीय बाजार में तमाम कंपनियों को पीछे छोड़ते हुए अपनी धाक जमा ली है। कॉम्पैक्ट एसयूवी सेंगमेंट में  Kia Motors ने साल 2020 में दूसरे नंबर पर आ गई, पहले नंबर पर एक और दक्षिण कोरियन कंपनी हुंडई मोटर्स (Hyundai motors) रही। वर्ष 2020 में हुंडई मोटर्स ने जहां एक लाख 80 हजार 237 यूनिट्स SUV की बिक्री की तो वहीं Kia Motors भी ज्यादा पीछे नहीं रही। Kia Motors ने पिछले वर्ष एक लाख 35 हजार 295 यूनिट्स SUV बेचने में सफल रही।

मात्र 57 गाड़ियों से Creta से पीछे रह गई Seltos

SUV सेगमेंट में Kia Motors ने दो गाड़ियां ( किआ सेल्टॉस (Kia Seltos) और किआ सोनेट) को लांच किया है। वर्ष 2020 में बिक्री के अनुसार देखे तो Kia Seltos और Hyundai Creta में जबरदस्त टक्कर देखने को मिली। मात्र 57 गाड़ियों से सेल्टॉस क्रेटा से पीछे रह गई। 2020 में हुंडई ने क्रेटा की कुल 96,989 गाड़ियों की बिक्री की तो वहीं Kia Motors ने  सेल्टॉस की कुल 96,932 गाड़ियों की बिक्री की। इसके अलावा कंपनी 38,363 यूनिट्स सोनेट बेचने में सफल रही।

 

देश में लॉक डाउन के बाद भी क्रेटा ( Hyundai Creta)ने अपनी बाजार बनाए रखी, और सबसे ज्यादा SUV की बिक्री की, SUV की बिक्री में तीसरे नंबर पर भारतीय कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा 1,30,192 यूनिट्स SUV बिकी के साथ है।  चौथे व पांचवे स्थान पर क्रमशः मारुती सुज़की और टाटा मोटर्स है। मारुती सुज़की साल 2020 में 98,939 एसयूवी बेचने में सफल रही, जबकि टाटा मोटर्स कुल 63,109 यूनिट्स SUV बेचने में सफल रही।

इसे भी पढ़े: UP Panchayat Elections 2021: निर्वाचन आयोग की नई गाइड लाइंस, अब इतने लोग लड़ सकते है प्रधानी

Related Articles

Back to top button