अपहरण-हत्याकांड: CM योगी ने आरोपियों पर NSA की कार्रवाई करने का आदेश, परिवार को 5 लाख की मदद

गोरखपुर में अपहरण और हत्याकांड मामले का CM योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लिया है. सीएम योगी ने अपराधियों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश देते हुए एनएसए (NSA) की कार्रवाई करने का आदेश दिया है. इसके अलावा सीएम ने पीड़ित परिवार को 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता का ऐलान किया है. साथ ही सीएम ने पुलिस की जवाबदेही निर्धारित करने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने परिजनों के प्रति गहरी संवेदना वक्त की और सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में करने के आदेश दिए हैं.उधर पिपराइच थाना क्षेत्र जंगल छत्रधारी गांव में किशोर की अपहरण के बाद हुई हत्या के मामले में पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर वारदात का खुलासा करने का दावा किया है. वहीं, पीड़ित परिवार का आरोप है कि अगर पुलिस ने समय से कार्रवाई की होती तो उनका बच्चा जिंदा होता.उधर विपक्ष प्रदेश भर में पिछले कुछ समय से हो रही सिलसिलेवार आपराधिक घटनाओं को लेकर योगी सरकार पर हमलावर है. गोरखपुर की घटना हो या कानपुर या फिर कासगंज हर मामले में पीड़ित परिजनों का आरोप यूपी पुलिस के ढुलमुल रवैये पर रहा.

जंगलराज बढ़ता जा रहा: प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर सीधा निशाना साधते हुए पूछा है, ‘क्या यूपी के मुखिया ने खबरें देखना छोड़ दिया है? क्या गृह विभाग में बैठे लोगों के सामने ये खबरें नहीं जातीं? यूपी में हर दिन गुंडाराज के नए रिकॉर्ड बन रहे हैं. सीएम के गृह क्षेत्र में अपहरण की घटना घटी है. कासगंज में हत्याकांड. लेकिन, दिखावे के लिए कुछ ट्रांसफर के अलावा और कुछ होता ही नहीं है. जंगलराज बढ़ता जा रहा है.’

भाजपा सरकार का निर्लज्ज मौन और निष्क्रियता प्रश्नचिन्ह के घेरे में: अखिलेश

वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर प्रहार करते हुए कहा ‘गोरखपुर से अपहृत बच्चे की हत्या का समाचार बेहद दर्दनाक व दुखद है. शोकाकुल परिवार के प्रति गहरी संवेदना. लगातार अपहरण और हत्याओं के बावजूद भी भाजपा सरकार का निर्लज्ज मौन और निष्क्रियता प्रश्नचिन्ह के घेरे में है.’

बता दें कि पिछले रविवार (26 जुलाई) को जंगल छत्रधारी गांव के एक 14 साल के किशोर का अपहरण कर उसके परिजनों से एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगी गयी थी. परिजनों का आरोप है पुलिस उनकी गुहार नहीं सुनी और शिकायत को तवज्जो नहीं दिया. लेकिन, जब मामला मीडिया में आया तब जाकर पुलिस की सक्रियता बढ़ी और सोमवार देर शाम पुलिस ने बच्चे का शव बरामद करते हुए इस मामले के खुलासे का दावा किया और बताया कि पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. इन लोगों ने किशोर की हत्या कर शव को बोरे में भरकर नहर में फेंका था.

 

Related Articles

Back to top button