राजा दशरथ ने राम-राम चिल्लाकर किया विलाप, मंच पर निकल गए प्राण, बज रही थी ताली

बिजनौरः उत्तर प्रदेश के बिजनौर में दूर दराज के एक इलाके में रामलीला में राजा दशरथ बने 62 वर्षीय कलाकार की ह्रदयाघात से मौत हो गयी। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी है कि उस वक्त स्टेज पर राम को वनवास के लिए भेजे जाने का दृश्य चल रहा था तभी राजा दशरथ बने राजेन्द्र वियोग में राम-राम चिल्लाकर विलाप करने लगे इस दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह अचानक मंच पर गिर गए। हालांकि, दर्शकों को यह सब राजेंद्र के अभिनय का हिस्सा लगा और वे तालियां बजाने लगे।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय से लगभग 65 किमी दूर अफजलगढ़ के हसनपुर गांव में बृहस्पतिवार रात को रामलीला मंचन के दौरान जब राम को वनवास के लिए भेजे जाने के दृश्य में राजा दशरथ बने 62 वर्षीय कलाकार राजेन्द्र सिंह वियोग में राम-राम चिल्लाकर विलाप करने लगे तभी उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह अचानक मंच पर गिर गये।

हालांकि, दर्शकों को यह सब राजेंद्र के अभिनय का हिस्सा लगा और वे तालियां बजाने लगे। जब साथी कलाकारों ने उन्हें उठाना चाहा तो राजेन्द्र प्राण त्याग चुके थे। हालांकि जब पर्दा गिरने के बाद भी राजेंद्र सिंह नहीं उठे तो उन्हें सहयोगी कलाकार राजेंद्र के पास पहुंचे तब उन्हें एहसास हुआ कि दशरथ का किरदार निभाते वक्त राजेंद्र सिंह ने राम के वन जाने के बाद उनके वियोग में मंच पर ही वास्तव में अपने प्राण त्याग दिए। राजेंद्र पिछले 20 साल से दशरथ का ही किरदार निभा रहे थे।

Related Articles