#KirtiAzadExposesJaitley : कीर्ति आजाद के टॉप पांच आरोपों पर DDCA की सफाई

asd

नई दिल्‍ली। शाम चार बजकर 5 मिनट पर कीर्ति आजाद ने डीडीसीए घोटाले को लेकर प्रेस कांफ्रेंस शुरू की। जानिए उन्‍होंने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान क्‍या-क्‍या कहा-

04:07 बजे – थोड़ी देर पर डीडीसीए स्‍कैम पर पूरा वीडियाे जारी करेंगे।

04:10 बजे – मैं प्रधानमंत्री का फैन। भ्रष्‍टाचार हटाने की मुहिम में शामिल हूं।

04:12 बजे – हम भ्रष्‍टाचार का विरोध करते रहेंगे। अब देखिए डीडीसीए स्‍कैम का वीडियो

04:13 बजे – फिल्‍मी अंदाज में शुरू हुआ वीडियो DDCA operation। पांच हिस्‍सों में दिखाया जाएगा वीडियाे।

04:14 बजे – कीर्ति आजाद का पहला आरोप : BCCI का पैसा डकार जाते हैं DDCA के जिम्‍मेदार

वीकीलीक्‍स इंडिया और सन स्‍टार नेशनल हिन्‍दी डेली की मदद से जारी हुआ DDCA Scam का वीडियो

04:19 बजे – फर्जी क‍ंपनियों के नाम पर डीडीसीए ने भुगतान कर दिया।

04:20 बजे – फर्जी कंपनियों की पड़ताल में हुआ खुलासा कि उन जगहों पर कोई रहता ही नहीं।

04:22 बजे – एक महिला ने बताया‍ कि यहां तो उसका घर है, कोई कंपनी नहीं।

04:23 बजे – श्रीराम ट्रेडर्स नाम की कंपनी फर्जी निकली। कंपनी के पते पर आलीशान मकान मिला।

04:25 बजे – वीकीलीक्‍स इंडिया के लोग वजीरगंज इंडस्‍ट्रीयल एरिया में सॉफ्टटेक कम्‍प्‍यूटर की शॉप पर गए तो वहां कोई और दुकान मिली। उसके मालिक ने बताया कि यहां सॉफ्टटेक कम्‍प्‍यूटर नाम की कोई शॉप नहीं, बल्कि उनकी अपनी दुकान है, जिसका डीडीसीए से कोई ताल्‍लुक नहीं।

DDCA घोटाले में दिल्‍ली की केजरीवाल सरकार जांच आयोग बनाएगी। सीएम केजरीवाल ने वरिष्‍ठ वकील गोपाल सुब्रमनियम को जांच आयोग का अध्‍यक्ष बनाया है।

04:28 बजे – सिटी टेक फॉर इंडिया नाम की कंपनी भी फर्जी निकली।

04:28 बजे – डीडीसीए ने जिस एसके ज्‍वेलर कंपनी को भुगतान किया, उसके मालिक ने बताया‍ कि डीडीसीए से उनका कोई ताल्‍लुक नहीं रहा। हालांकि ज्‍वेलर शॉप का नाम पता सही था।

04:29 बजे – करोलबाग में केएस एसोसिएट कंपनी का पता नहीं चला। इसके मालिक से फोन पर बात हुई तो उन्‍होंने बताया कि डीडीसीए से उनकी कंपनी जुड़ी थी। लेकिन इसी साल डीडीसीए से केएस एसोसिएट ने नाता तोड़ लिया है।

04:34 बजे – शाहदरा के एसके कंस्‍ट्रक्‍शन का भी डीडीसीए को कोई रिश्‍ता नहीं मिला।

डीडीसीए पर केजरीवाल सरकार ने वित्‍त मंत्री अरुण जेटल को घेरा था। SFIO (serious fraud investigation office) की रिपोर्ट के आधार पर केजरीवाल ने जेटली को घेरा था।

04:42 बजे – कीर्ति आजाद का दूसरा आरोप : 14 फर्जी कंपनियां सामने आईं, डीडीसीए ने इन्‍हें किया था भुगतान।

04:42 बजे – तीसरा आरोप : 15 पेज की प्रेस रिलीज जारी करूंगा। उससे आपको पता चलेगा कि कई कंपनियों को करोड़ाें रुपए दिए गए लेकिन उनके भुगतान का कोई लेखा-जोखा नहीं मिला।

04:45 बजे – चौथा आरोप : डीडीसीए के वकील यूके चौधरी को लोकअदालत में कंपनी लॉ बोर्ड का मेंबर बना दिया गया।

04:49 बजे – पांचवा आरोप : डीडीसीए ने संजय भारद्वाज एण्‍ड कंपनी को ऑडिटर बनाया, डीडीसीए मेंबर्स ने इसका विरोध किया। लेकिन डीडीसीए ने विरोध दरकिनार कर दिया। बाद में कोर्ट के आदेश पर संजय भारद्वाज एण्‍ड कंपनी के खिलाफ फर्जीवाडे़ का केस दर्ज हुआ।

DDCA की सफाई

DDCA की छवि खराब करनें की कोशिशें हो रही है, मैं अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को नकारता हूं
स्नेह बंसल, DDCA प्रेसिडेंट

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button