Kisan Andolan Live: जंतर-मंतर में किसानों का प्रचंड हल्लाबोल, राहुल गांधी शामिल

दिल्ली जंतर-मंतर पर 3 कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किसानों के साथ राहुल गांधी और कांग्रेसी सांसद शामिल

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) में जंतर-मंतर (Jantar Mantar) पर 3 कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए 40 किसान संगठन शामिल हुए है। उनके साथ कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और कांग्रेसी सांसदो ने भी नए कृषि कानूनों को रद्द किए जाने के विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया है। प्रदर्शन को देखते हुए सिंघु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर पर सुरक्षा बल तैनात किया गया है।

दिल्ली DCP परविंदर सिंह ने बताया कि किसानों के प्रदर्शन को ध्यान में रखकर टिकरी बॉर्डर (Tikri Border) पर प्रतिबंध की व्यवस्था की गई। सिर्फ सिंघु बॉर्डर से आने जाने की अनुमति है। टिकरी बॉर्डर से किसानों के प्रदर्शन से संबंधित आवाजाही की अनुमति नहीं है। बाकी अन्य तरह की आवाजाही पर रोक नहीं है।

किसानों को पुलिस घुमा रही है

सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर किसान नेता मंजीत सिंह राय ने बताया पुलिस जानबूझकर यहां घुमा रही है। ये हमारा समय बर्बाद कर रहे हैं। हमारा रूट पहले से तय था। बसों के जरिए सिंघु बॉर्डर से जंतर मंतर जाना था फिर उतरकर पार्लियामेंट जाना था लेकिन कह रहे हैं कि कॉलोनी से जाए। इतने पुलिस बल की जरूरत नहीं थी। उन्होंने बताया कि 200 किसान संसद के आगे कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के लिए जाएंगे। जंतर मंतर पर हमारी बसें रुकेंगी वहां से हम पैदल जाएंगे। जहां पर भी हमें पुलिस रोकेगी वहीं पर हम अपनी संसद लगाएंगे। जिन किसानों के आईकार्ड बन गए हैं वे आगे जाएंगे।

 

पंजाब (Punjab) के कांग्रेस सांसदों ने संसद परिसर में महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने 3 कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा हम किसानों के मुद्दों को सदन में उठा रहे हैं। किसान हमारी रीढ़ की हड्डी है। किसानों के बिना हम जी नहीं सकते। उस आवाज को उठाना जरूरी है और हम उठाएंगे।

कृषि मंत्री का बयान

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) हमने किसानों से नए कृषि कानूनों के संदर्भ में बात की है। किसानों को कृषि कानूनों के जिस भी प्रावधान मे आपत्ति हैं वे हमें बताए, सरकार आज भी खुले मन से किसानों के साथ चर्चा करने के लिए तैयार है।

शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat Kaur Badal) ने कहा यह सरकार किसान विरोधी है। किसान पिछले 8 महीनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार कहती है कि किसान हमसे बात करें लेकिन कानून वापस नहीं होंगे। जब आप ने कृषि कानून वापस नहीं लेने है तो किसान आपसे क्या बात करेंगे।

यह भी पढ़ेअखिलेश ने किया यूपी 2022 चुनाव का आगाज, बोले- ‘सपा 350 सीटें जीतने जा रही है’

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles