किसान Strike: अरुण सिंह ने कांग्रेस पर लगाया आंदोलन भड़काने का आरोप

राजस्थान BJP प्रभारी अरुण सिंह ने कांग्रेस पर लगाया आंदोलन को हवा देने का आरोप, बोले ‘किसान मोदी के साथ खड़ी है’

जयपुर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजस्थान प्रभारी अरुण सिंह ने कांग्रेस पर किसान आंदोलन को हवा देने का आरोप लगाते हुए कहा है कि अधिकतर किसान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ खड़े हैं और एक प्रतिशत भी किसान सड़कों पर नहीं है तथा शीघ्र ही आंदोलन समाप्त होने की उम्मीद हैं।

टुकड़े-टुकड़े गैंग के लोग

अरुण सिंह प्रदेश भाजपा मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत में यह बात कही। उन्होंने कहा कि 99 प्रतिशत किसानों में अविश्वास नहीं हैं और एक प्रतिशत भी किसान सड़कों पर नहीं है। प्रभारी ने कहा कि दिल्ली के कुछ क्षेत्र में किसान बैठे हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भोले भाले किसानों को बरगला गया है। यह भी कहा कि आंदोलन में टुकड़े-टुकड़े गैंग के लोग भी घुस गये हैं।

किसानों की आमदनी दोगुनी

अरुण सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार देश में सशक्त और खुशहाल किसान के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए लगातार प्रयास कर रही हैं। लेकिन चिंता की बात है कि विपक्षी दल मुख्य रूप से कांग्रेस, जिसने हमेशा किसानों को ठगा और उन्हें धोखा दिया और उनके लिए कभी कुछ भला नहीं किया, वह किसान आंदोलन को हवा दे रही है।

प्रधानमंत्री की नीतियों को समर्थन

प्रभारी ने कहा कि आज देश में अधिकतर किसान प्रधानमंत्री के साथ खड़े हैं और बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश चुनाव और कर्नाटक का उपचुनाव, सभी जगह भाजपा और प्रधानमंत्री की नीतियों को समर्थन मिला है। उन्होंने कहा कि कृषि सुधार कानून किसानों के कल्याण के लिए लाया गया लेकिन कांग्रेस अपने निहित स्वार्थ के चलते इसका विरोध कर रही है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य

अरुण सिंह ने कहा कि मोदी ने गरीब एवं किसानों की चिंता की हैं और ये लोग उन्हें अपना मसीहा मानते हैं। उन्होंने इन लोगों से मोदी को समर्थन देने की अपील करते हुए कहा कि नये कृषि कानून उनके भलाई के लिए लाये गये है। उन्होंने कहा कि किसानों की उपज की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य पहले भी था, अब भी हैं और आगे भी यह व्यवस्था रहेगी। प्रभारी ने कहा कि एमएसपी दर पर किसानों का एक-एक दाना खरीदा जायेगा।

उपज के अधिक दाम

अरुण सिंह ने कहा कि ये कानून किसान को स्वतंत्रता दे रहे हैं। इससे किसानों के पास अपनी फसल कहीं भी बेचने का विकल्प खुला हैं, जिससे उन्हें अपनी उपज के अधिक दाम मिलेंगे। उन्होंने किसानों को आश्वस्त किया कि उनकी जमीन कहीं गिरवी नहीं रखी जायेगी। उन्होंने कहा कि इस कानून के तहत किसान अपना समझौता तोड़ भी सकता हैं लेकिन इसमें तीन साल का नियम भी हैं।

घनश्याम तिवाड़ी की BJP में वापसी

प्रभारी ने उम्मीद जताते हुए कहा कि अब किसानों को समझ में आ गया हैं और वे शीघ्र ही आंदोलन समाप्त करेंगे। भाजपा के साथ गठबंधन करने वाले राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (रालोपा) के संयोजक हनुमान बेनीवाल के किसान आंदोलन में सड़क पर उतरने के सवाल पर  अरुण सिंह ने कहा कि अगर किसी प्रकार का मनमुटाव हैं तो उन्हें बुलाकर इसे दूर किया जायेगा। वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी के भाजपा में वापसी करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा बड़ा परिवार हैं और तिवाड़ी ने विचारधारा के खिलाफ कभी नहीं बोला।

यह भी पढ़ेFarmer Strike: आप ने अजमेर में किया एक दिन का आमरण अनशन

यह भी पढ़ेCM योगी ने अधिकारियों को कार्यप्रणाली में सुधार करने के दिए सख्त निर्देश

Related Articles

Back to top button