काले हिरण मामले में जानिए सलमान खान की रिहाई से जुड़ी कुछ अहम बातें

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान काले हिरण के शिकार के मामले में जोधपुर केन्द्रीय कारागृह में दो दिन की सजा काटकर जमानत मिलने के बाद केन्द्रीय कारागृह से रिहा कर दिए गये है। सलमान खान फिल्म ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान काले हिरण के शिकार मामले में फंस गये थे।

सलमान खान

साल 1998 में हुए काले हिरण के शिकार मामले में सलमान को पांच साल कैद की सजा सुनाई गई थी। फिलहाल वे जमानत पर रिहा हैं। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि जमानत मिलने के बाद 52 साल के सलमान खान को रिहाई के बाद तुरंत पुलिस की सुरक्षा में हवाई अड्डे ले जाया गया।

सरकारी दस्तावेज जेल अधिकारियों को मिलने के बाद हुए रिहा- सलमान को जेल से रिहा करने से पहले बहुत सी फोर्मेल्टी पूरी की गयी। जेल के एक अधिकारी ने बताया कि अदालत के दस्तावेज जेल अधिकारियों को मिलने के बाद सलमान जेल से रिहा हुए। इससे पहले, जिला एवं सत्र जज रवीन्द्र कुमार जोशी ने सलमान की जमानत और सजा के एक महीने तक निलंबन की अपील स्वीकार कर ली ताकि सलमान अपनी दोष सिद्धी और सजा के खिलाफ अपील कर सकें।बचाव पक्ष के वकील महेश बोरा ने बताया कि सलमान को 50,000 रूपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशियों की दो जमानत पर रिहा किया गया। गुरुवार को पांच साल कैद की सजा सुनाए जाने के बाद से सलमान जोधपुर की जेल में बंद थे।

सलमान को लेने पहुंची थी उनकी बहने- सलमान की जमानत याचिका पर सेशंस कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था और उसने निचली अदालत से मामले के रिकॉर्ड मांगे थे। जेल के अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सलमान खान की जमानत अदालत द्वारा जब मंजूर कर ली गई थी तब उनके परिवार के लोग उन्हें लेने पहुंचे थे जिनमे से उनकी बहनें अलवीरा, अर्पिता और उनके साथ रहने वाला सुरक्षागार्ड शेरा थे। सलमान के जेल से बाहर निकलने के बाद पुलिस ने कडे सुरक्षा प्रबंध के बीच उन्हें हवाई अड्डे की ओर रवाना किया। सलमान कार की आगे की सीट पर बैठे हुए थे।

अलवीरा, अर्पिता

सलमान की रिहाई पर प्रंशसकों ने फोड़े पटाखे- उनके प्रशंसक कुछ दूर तक कार के साथ भागे लेकिन कुछ देर बाद कार पुलिस के एस्कॉर्ट वाहन की मदद से आगे निकल गई।सलमान जमानत पर रिहा होने के बाद जैसे ही जेल के मुख्य दरवाजे से बाहर निकले, उत्साहित प्रंशसकों ने पटाखे फोड़े। प्रशंसकों में महिलाओं और बच्चे भी काफी संख्या में थे। जेल के बाहर मीडिया का भी भारी जमावड़ा था। पुलिस को प्रशंसकों को काबू में करने और सलमान खान के वाहनों को निकालने में काफी मशक्त करनी पडी।

अगली सुनवाई 7 मई को होगी- सलमान खान की बहनें अलवीरा और अर्पिता भी फैसले के वक्त मौजूद रहीं। अभियोजन पक्ष के वकील के अनुसार सलमान को 50,000 रूपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशियों की दो जमानत और अदालत की मंजूरी के बिना विदेश नहीं जाने की शर्तो पर रिहा किया गया है। उन्होंने बताया कि याचिका पर अगली सुनवाई 7 मई को होगी और सलमान खान को तब व्यक्तिगत रूप से मौजूद रहने के निर्देश दिए गए हैं। सलमान खान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने बताया कि जोधपुर के दो स्थानीय लोगों ने सलमान खान की जमानत दी है।

गौरतलब है कि सीजेएम (ग्रामीण) ने गुरुवार को सलमान खान को कांकाणी गांव में दो हिरण का शिकार करने के जुर्म में दोषी ठहराते हुए पांच साल की कैद और दस हजार रूपये का जुर्माने की सजा सुनायी थी। अदालत ने पांच सह आरोपियों सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम को सन्देह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था।इस बीच, देर रात के एक घटनाक्रम में काले हिरण के शिकार मामले में जमानत और सजा निलंबित करने के आग्रह वाली सलमान खान की अर्जी पर सुनवाई कर रहे जिला एवं सत्र अदालत के न्यायाधीश का तबादला कर दिया गया।राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार, सत्र न्यायाधीश रवींद्र कुमार जोशी का कल देर रात सिरोही ट्रांसफर कर दिया गया। जोधपुर की सत्र अदालत में उनकी जगह चंद्र कुमार सौंगारा लेंगे।

Related Articles