जानिए इन तीन महान वैज्ञानिको के बारे में जिनके शरीर के जरूरी अंग सैकड़ों साल से रखे हुए हैं सुरक्षित

वैसे तो मर चुके लोगों के शरीर को या तो जला दिया जाता है या फिर उन्हें दफना दिया जाता है, लेकिन कई देशों में गुजर चुके लोगों के अंगों को सहेजकर रखने का भी चलन है। आज हम आपको दुनिया के उन तीन वैज्ञानिकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके शरीर के अंगों को सैकड़ों साल से सहेज कर रखा गया है। इन तीनों ही वैज्ञानिकों ने विज्ञान को नई ऊंचाईयों पर पहुंचाया है और कई जरूरी आविष्कार भी किए हैं।

इटली के मशहूर वैज्ञानिक गैलीलियो गैलिली का नाम तो आपने सुना ही होगा। वो एक महान आविष्कारक थे। उन्होंने ही दूरबीन का आविष्कार किया था। आपको जानकर हैरानी होगी कि उनकी एक उंगली, अंगूठा और रीढ़ की एक हड्डी को इटली के फ्लोरेंस शहर में स्थित संग्रहालय में सुरक्षित रखा गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, उनके शव से इन अंगों को वर्ष 1737 में उस वक्त निकाल लिया गया था, जब उनके शव को एक कब्र से दूसरी कब्र तक ले जाया जा रहा था।

अल्बर्ट आइंस्टाइन को कौन नहीं जानता है। उन्हें सदी का सबसे बड़ा वैज्ञानिक माना जाता है। उनकी मौत के बाद साल 1955 में उनकी आंखें निकालकर न्यूयॉर्क में एक सेफ में रख दी गई थीं। इसके अलावा उनके दिमाग को भी निकाल लिया गया था और उसपर सालों तक वैज्ञानिकों ने रिसर्च किया था, यह जानने के लिए कि आखिर ऐसा क्या था उनके दिमाग में कि वो इतने महान वैज्ञानिक बने।

लाइट बल्ब, फोनोग्राफ और कैमरे का आविष्कार करने वाले महान अमेरिकी वैज्ञानिक थॉमस एडिसन को शायद ही ऐसा कोई होगा, जो न जानता हो। थॉमस एडिसन के शरीर के किसी अंग को तो नहीं, लेकिन उनकी छोड़ी हुई आखिरी सांस को जरूर कैद करके सुरक्षित रखा गया है। उनकी आखिरी सांस को एक परखनली में अमेरिका के मिशिगन शहर के संग्रहालय में रखा गया है।

Related Articles