जानिये सबसे अधिक ऊंचाई पर स्थित इस लोकप्रिय पर्वतीय स्थल के बारे में

समुद्र तल से 1372 मीटर की ऊंचाई पर स्थित महाबलेश्वर महाराष्ट्र का सबसे अधिक ऊंचाई वाला लोकप्रिय व खूबसूरत पर्वतीय स्थल है. महाबलेश्वर की हरियाली से लबालब मनोरम दृश्यावलियां पर्यटक को स्वप्नलोक में विचरण करने को विवश कर देती हैं. महाबलेश्वर मुंबई (भूतपूर्व बंबई) से 64 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में और सतारा नगर के पश्चिमोत्तर में पश्चिमी घाट की सह्याद्रि पहाड़ियों में 1,438 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है.

प्राचीनकाल में कृष्णा नदी और इसकी चार मुख्य सहायक धाराओं के उद्गम स्थल के रूप में मान्यता प्राप्त इस स्थान को हिन्दुओं द्वारा तीर्थस्थल माना जाता है. ऊंची चोटियां, भय पैदा करने वाले घाटियां, चटक हरियाली, ठण्‍डी पर्वतीय हवा, महाबलेश्‍वर की विशेषता है. महाबलेश्‍वर में कई दर्शनीय स्‍थल हैं और प्रत्‍येक स्‍थल की एक अनोखी विशेषता है.

आप पुराने महाबलेश्‍वर और प्रसिद्ध पंच गंगा मंदिर जा सकते हैं, जहां पांच नदियों का झरना है: कोयना, वैना, सावित्री, गायित्री और पवित्र कृष्‍णा नदी. यहां महाबलेश्‍वर का प्रसिद्ध मंदिर भी है, जहां स्‍वयं भू लिंग स्‍थापित है.

भिलर टेबललैंड, मेहेर बाबा गुफाएं, कमलगर किला और हेरिसन फोली भी दर्शनीय हैं. प्रतापगढ़ जो महाबलेश्वर से 24 कि.मी. दूर 900 मीटर की ऊंचाई पर है. यह उन किले में से एक है जिसका निर्माण छत्रपति शिवाजी ने 1656 ईस्वी में अपने रहने के लिए किया था. पंचगनी जो कृष्णा घाटी के दक्षिण में स्थित पंचगनी महाबलेश्वर से मात्र 19 किलोमीटर दूर है. यह चारों ओर से मनमोहक दृश्यों से भरपूर होने के कारण पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है.

महाबलेश्वर मुंबई से 247, पुणे से 120, औरंगाबाद से 348, पणजी से 430 किलोमीटर दूर है. महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम यहां के लिए मुंबई और पुणे से विशेष लक्जरी बसें चलाती है. यहां खाने-पीने और ठहरने की सामान्य सुविधा उपलब्ध है.

 

Related Articles