जानिये कैसे रखते है एक्टर अजय देवगन अपने आप को स्टारडम से अलग

मुंबई: अजय देवगन पीछे मुड़कर देखने और भविष्य को लेकर बहुत कुछ सोचने पर भरोसा नहीं करते हैं। उन्हें वर्तमान में रहना पसंद है। अभिनेता का कहना है कि वह स्टारडम के बारे में भी परवाह नहीं करते हैं और न ही ज्यादा सोचते हैं उस बारे में और इसी सोच से उन्हें वास्तविकता में रहने में काफी मदद मिलती है। दिवंगत वरिष्ठ एक्शन निर्देशक वीरू देवगन के बेटे, अजय ने 1991 में ‘फूल और कांटे’ से बॉलीवुड में प्रवेश किया| फिल्म हिट रही और अजय की आगे बढ़ने की शुरुआत भी इसी से हुई थी|

 

उनसे पूछे जाने पर कि वह अपने स्टारडम से खुद को कैसे अलग कर लेते हैं? इस पर अजय देवगन ने कहा, “मैं इसके बारे में नहीं सोचता हूं| मुझे इसकी परवाह नहीं है| मैं बाहर बहुत ज्यादा नहीं जाता हूं| मैं अपनी शक्ति का प्रदर्शन नहीं करता हूं| मुझे लगता है कि मुझे और काजोल को इसकी परवाह नहीं है| हम अपनी जगह पर खुश हैं|” हॉलीवुड स्टार बेन एफ्लेक का मानना है कि वह नहीं चाहते कि उनके बच्चे उनकी प्रसिद्धि की कीमत अदा करें| इस बात पर अजय भी उनसे सहमत हैं, लेकिन उन्हें लगता है कि यह वास्तव में संभव नहीं हो पाता है|

हाल ही में सिंघम स्टार अजय देवगन की फिल्म ‘दे दे प्यार दे’ ने 100 करोड़ रुयये की कमाई कर ली थी। ये इस साल उनकी दूसरी फिल्म है जिसने 100 करोड़ की कमाई का आंकड़ा पार कर चूका होगा| जल्द ही ये एक्टर आगामी पीरियड ड्रामा फिल्म ‘तानाजी: द अनसंग वॉरियर’ में नजर आने वाले है, जिसमें उनके साथ काजोल भी होंगी| वहीं वह ‘मैदान’ में महान फुटबॉलर सैयद अब्दुल रहीम की कहानी को भी पर्दे पर जीवंत करने वाले है|

Related Articles