जानिए ग्लोबल वार्मिंग कैसे बन सकती है नयी-नयी Pandemic की वजह

लंदन : मौजूदा वक़्त में Pandemic से जूझती दुनिया पर फिर से खतरे के बादल मंडराने लगे हैं । असल में मसला ये है कि साइंटिस्ट्स ने कोरोना Pandemic से भी डेडली एक नये वायरस की वार्निंग दी है, जिस से फिर करोड़ों मौतें हो सकती है। इस वायरस से होने वाली बीमारी का नाम है डिजीज एक्स । साइंटिस्ट की मानें तो ये बीमारी इबोला की तरह डेडली होगी ।

अफ्रीका में मिला था पहला मरीज़

द सन में छपे आर्टिकल में हेल्महोल्ट्ज-सेंटर के जोसेफ सेटल ने कहा है कि यूँ तो कोई भी जानवर इस का वेक्टर हो सकता है। उन्होंने आगे ये भी कहा कि  फिलहाल इस बीमारी के बारे में ज़्यादा कुछ तो नहीं पता चला है। लेकिन ये वायरस इतना डेंजरस है की ये अगली महामारी की वजह  बन सकता है। इसका पहला मरीज कांगो में मिला था । उसे तेज बुखार की शिकायत थी साथ ही इंटरनल ब्लीडिंग भी हो रही थी। उसने इबोला का टेस्ट कराया, लेकिन वह नेगेटिव आया था। तब इस वायरस का पता चला।

ग्लोबल वार्मिंग हो सकती है वजह

WHO का अंदाज़ा है कि इस नए वायरस के मिलने की वजह ग्लोबल वार्मिंग भी हो सकती है। आर्गेनाईजेशन की माने तो कई वायरस ऐसे है जो लम्बे वक़्त से बर्फ में दफन थे पर अब ग्लोबल वार्मिंग से बर्फ पिघल रही है और नए-नए वायरस एनवायरनमेंट में रिलीज़ होते जा रहे हैं। जिन के खिलाफ इंसानो की इम्युनिटी लगभग जीरो है। EcoHealth Alliance की रिपोर्ट की माने तो दुनिया में मौजूद 1.5 मिलियन वायरस में से हम अब तक सिर्फ 8 लाख वायरस ही पहचान पाए हैं।

 

ये भी पढ़ें : कोरोना संकट की मार झेल रही ये ऑटो कंपनी, कई अध‍िकारियों को दिखाया बाहर का रास्ता

Related Articles