जानिए आपके साबुन (Soap) में कितना होनी चाहिए PH Value?

क्या पीएच 5.5 पर तैयार उत्पाद त्वचा के लिए एकदम सही हैं? इसका छोटा सा जवाब है: नहीं। सबसे पहले तो सर्फेक्टेंट, बनावट और अन्य अवयवों जैसे पैरामीटर एक क्लीन्जर की गुणवत्ता को इंगित करते हैं, जो अकेले पीएच से बहुत बेहतर है।

नई दिल्ली: कुछ हालिया साबुन (Soap) विज्ञापनों ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया है, जिसमें उन्होंने कुछ सवाल उठाए हैं, जिसमें पूछा गया है कि क्या मानव त्वचा के लिए कोई सही पीएच उत्पाद है? एक अच्छे साबुन को कौन सी विशेषताएं परिभाषित करती हैं? चलिए शुरू से शुरुआत करते हैं। पीएच (पोटेंशियल हाइड्रोजन) को एक कंसन्ट्रेशन में हाइड्रोजन आयनों (Hydrogen ions) की सांद्रता (Concentration) के रूप में परिभाषित किया गया है। पीएच मान 0 से 14 के बीच होता है। 7 न्यूट्रल प्वॉइंट हैं, 0 सबसे अम्लीय (Acidic) है और 14 सबसे क्षारीय (Alkaline) है।

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह कि आपकी त्वचा बिल्कुल पीएच 5.5 नहीं है। यह हर किसी के शरीर के अंग, उम्र, आनुवंशिकी, जातीयता, पर्यावरण की स्थिति के रूप में विविधता के आधार पर 4.0 से 7.0 के बीच की सीमा में आता है।

तो, क्या पीएच 5.5 पर तैयार उत्पाद त्वचा के लिए एकदम सही हैं? इसका छोटा सा जवाब है: नहीं। सबसे पहले तो सर्फेक्टेंट, बनावट और अन्य अवयवों जैसे पैरामीटर एक क्लीन्जर की गुणवत्ता को इंगित करते हैं, जो अकेले पीएच से बहुत बेहतर है।

दूसरा यह कि, त्वचा का पीएच सादे पानी से भी साफ करने के तुरंत बाद थोड़ा बढ़ जाता है, यह एक घंटे में अपने हल्के अम्लीय पीएच को बदल देता है। स्वस्थ त्वचा जल्दी से ‘एसिड मेंटल’ को पुनर्जीवित करती है, त्वचा पर एक सुरक्षात्मक परत और क्लींजर के पीएच द्वारा लंबे समय तक अप्रभावित रहती है। त्वचा पीएच को नियंत्रित करती है, जिससे त्वचा उत्पाद न केवल विभिन्न पीएच स्तर पर, बल्कि समग्र सूत्र के संयोजन में भी कार्य करते हैं। तो मार्केट क्यों पीएच 5.5 उत्पादों को ‘सही’ बता रहा है? खैर, कुछ प्रकार की त्वचा के लिए (जैसे तैलीय त्वचा) और कुछ त्वचा की स्थिति (जैसे मुंहासे), पीएच में वृद्धि इन त्वचा स्थितियों को बढ़ा सकती है। इनकी बेहतर सफाई के लिए 5.5 पीएच पर होने वाले उत्पाद की उचित व्याख्या हो सकती है।”

भारतीय मानक ब्यूरो के साबुन के लिए अनिवार्य दिशानिर्देश में भी पीएच को बाहर रखा गया है, यह दर्शाता है कि संरचना सुरक्षा और सौम्यता के लिए अधिक प्रासंगिक है। यहां तक कि बीआईएस बच्चे की त्वचा के लिए एक ऐसे साबुन के उपयोग को भी मंजूरी दे देता है, जो सामान्य उपयोग की शर्तों के तहत उनकी सुरक्षा को कम करता है।

यह भी पढ़ें: थाईलैंड ओपन ( Thailand Open ) के दूसरे दौर में पहुंची सिंधू, अब इनसे होगा मुकाबला

इस मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए डॉ. अपर्णा संथानम (एमडी, डीएनबी) परामर्श त्वचा विशेषज्ञ, सलाहकार और लेखिका ने कहा, “हाल के वैज्ञानिक प्रगति ने त्वचा के स्वास्थ्य में एसिड मेंटल के महत्व को पेश किया है। हालांकि, एक उत्पाद का पीएच त्वचा को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारकों में से सिर्फ एक है। पहले से मौजूद त्वचा की स्थिति, पानी की गुणवत्ता, सही उपयोग और संपर्क समय सहित कई अन्य कारक हैं, जो एक उत्पाद का उपयोग करने के बाद एसिड मेंटल में योगदान करते हैं। त्वचा भी इन सभी या किसी भी कारक के संपर्क में आने के बाद पीएच को शारीरिक स्तर पर लाने के लिए मरम्मत और रिस्टोरेटिव मैकेनिज्म करती है। इस तरह इन सभी कारकों को समझना महत्वपूर्ण है, बजाय उनमें से सिर्फ एक के।”

यह भी पढ़ें: उर्जा मामले में आत्मनिर्भर बना यह प्रदेश, स्कूलों की छतों पर लगेंगे रूफटॉप सोलर संयंत्र

देश भर के स्किनकेयर विशेषज्ञों ने पीएच के मुद्दे पर कई कारकों के अनुसार उत्पाद सुरक्षा और एसिड मेंटल संरक्षण के एकमात्र पैमाने पर फैसला व्यक्त करने को लेकर संदेह व्यक्त किया है, क्योंकि सादा पानी तक इसमें योगदान दे सकते हैं, जो इनके कई कारकों में शामिल है। तो, क्या हम इस आदर्श पीएच को एक सफाई उत्पाद के एकमात्र आदर्श माप के रूप में देख सकते हैं? इसका जवाब है, मात्र पीएच से आगे बढ़कर देखना चाहिए।

Related Articles

Back to top button