जानिए कितना प्योर है कर्नाटक Gold का taste

बेंगलुरु : कर्नाटक, भारत का इकलौता राज्य जो बड़ी मात्रा में Gold का प्रोडक्शन करता है, अब खुद ज्वैलरी की दुकानें खोलने और स्टेट नेम ब्रांड कर्नाटक के अंडर इस कीमती मेटल (Gold )की बिक्री को बढ़ावा देने की योजना बना रहा है।सरकार प्राइवेट ज्वैलर्स के साथ कोललैबरेट कर ज्वेलरी रिटेल आउटलेट खोलने की तैयारी में है। जिसमे स्टेट ज्वैलरी का प्रोडक्शन करेगा और प्राइवेट प्लेयर्स उसे मार्किट में बेचेंगे।

रिटेल आउटलेट्स खोल बेचेंगे गोल्ड

खदान और भूविज्ञान मंत्री मुरुगेश आर निरानी ने ज्वैलर्स एसोसिएशन के साथ बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा की सरकार मैसूर सिल्क और मैसूर सैंडलवुड साबुन की तर्ज पर सरकार सोने की ज्वैलरी का प्रोडक्शन करने की योजना बना रही है। जिन्हें कर्नाटक के ब्रांड नेम से बेचा जाएगा। उन्होंने ये भी कहा कि इस पहल से लोगों को बेहद फ़ायदा होगा क्यूंकि सरकार की निगरानी में होने की वजह से इस में गड़बड़ और मिलावट का कोई सवाल नहीं पैदा होगा।

रेवेन्यू के साथ रोज़गार होगा जेनरेट

उन्होंने यह भी कहा की इस ऐतिहासिक पहल सरकार से जहाँ सरकार को अधिक रेवेन्यू मिलेगा वहीँ लोगों के लिए नए रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। जैसा की आप जानते हैं गोल्ड इन्वेस्टमेंट के लिए ज़मानों से लोगों की पहली पसंद रहा है इसलिए सरकार को इस वेंचर में सक्सेस की उम्मीद हैं।

शुरुआत में रिटेल आउटलेट टियर -1 शहरों में ही खोले जाएंगे और अगर कस्टमर से अच्छा रिस्पांस मिला तो इन्हें  टियर -2 शहरों तक एक्सपैंड किया जाएगा। इसी के साथ सरकार कल्याण कर्नाटक रीजन में गोल्ड सेल्लिंग से स्पेशल इकनोमिक जोन सेट कर इस पिछड़े इलाके के विकास की प्लानिंग भी कर रही है।

बढ़ाया जाएगा गोल्ड प्रोडक्शन

अपने इस मकसद को पूरा करने के लिए सरकार ने हट्टी गोल्ड माइन्स को बेहतर करने के साथ-साथ इसकी क्षमता को बढ़ाने पर भी ज़ोर दिया है। सरकार हट्टी गोल्ड माइन्स लिमिटेड का नेम चेंज कर कर्नाटक राज्य (हट्टी) गोल्ड माइंस लिमिटेड करने की भी योजना बना रही है। जिसमे सोने का प्रोडक्शन 1,700 किलोग्राम से बढ़ाकर 5,000 किलोग्राम किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : Share Market: हफ्ते के आखिरी दिन फिसला बाज़ार, Sensex 50 हज़ार के नीचे हुआ बंद

Related Articles