जानिए कैसे incognito मोड में भी हो सकती है आपकी पहचान उजागर

कैलिफ़ोर्निया : हर ब्राउज़र में एक incognito मोड होता है जिस से यूजर बिना अपनी पहचान उजागर किये इंटरनेट एक्सेस कर सकता है। और इससे उसकी प्रिवेसी में भी खलल नहीं पड़ता । अब इसी कड़ी में एक नया मोड़ आया है। मामला ये है की हाल ही में  टेक जायंट गूगल पर  incognito  मोड में भी यूजर के डाटा पर नज़र रखने का आरोप लगा है।

incognito में भी कुकीज़ (data) हो रहे थे सेव

ये मामला कैलिफ़ोर्निया का है जहाँ इंटरनेट यूजर के एक ग्रुप ने कैलिफ़ोर्निया अदालत में कंपनी के खिलाफ एक केस दायर किया है। जिसमे उन्होंने गूगल पर आरोप लगाया गया है कि उस ने incognito  मोड में होते हुए भी उन का इंटरनेट सर्फिंग डाटा रिकॉर्ड किया है। जज के सामने पेश हुए गूगल रेप्रिज़ेंटेटिवे भी इस मसले पर कोई सटिस्फैक्ट्री एक्सप्लनेशन नहीं दे  पाए हैं जिस से गूगल का पक्ष और भी कमज़ोर हो गया है।

incognito में पहचान नहीं होती है उजागर, लेकिन

इंटरनेट यूजर ने अपनेबयान में कहा कि ब्राउज़र स्टैंडरड मोड की तरह incognito में भी उनकी सर्फ की गई वेबसाइट  कुकी स्टोर कर रहा है। जो प्राइवेसी के उन के अधिकार के बिलकुल खिलाफ है। जिस के जवाब में गूगल ने जज को बताया की ऐसा इस लिए हुआ क्यूंकि यूजर ने थर्ड पार्टी वेबसाइट को एक्सेस किया था। जिनपर विज्ञापन एक्टिव थे। और जिस वेबसाइट पर विज्ञापन एक्टिव होते हैं उन  विज़िटर्स का कुकी डाटा एनालिसिस के लिए औटोमैटिक्ली सेव होता रहता है। पढ़ें

ये भी पढ़ें : किम जोंग की बहन ने बाइडन को दी चेतावनी, अगर चैन से सोना तो न करें ऐसी हरकत

Related Articles