जानिये आखिर कब झूठ बोलने लगते हैं बच्चे …

0

नई दिल्ली: बच्चा पूछता है, ‘मॉम, क्या मैं बारिश में खेलने जाऊं?’, ‘क्या मैं आइसक्रीम खा लूं?’ ‘क्या मैं अपने दोस्तों के साथ ट्रैकिंग पर जाऊं?’, इन सब प्रश्नों के लिए मां का क्या जवाब होगा, हम सभी जानते हैं। मां जरूर कहेगी ‘नहीं’ और बच्चा मायूस हो जाएगा। मांएं अपने बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ चाहती हैं, इसलिए वे सुरक्षा के प्रति बहुत सावधान रहती हैं। उनका पूरा ध्यान इस बात पर रहता है कि उनके बच्चे सेहतमंद रहें, उचित खाना खाएं, समय पर सोएं, स्कूल में अच्छा परफॉर्म करें। उनकी सावधानियों की सूची अंतहीन है। बार-बार डॉक्टर के क्लीनिक में जाने से बच्चे के पूरे विकास में भी बाधाएं आती हैं। जहां एक तरफ ज्यादातर मांएं बच्चों की शारीरिक सेहत के प्रति बहुत सावधान होती हैं, तो वहीं दूसरी तरफ वे बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान नहीं देतीं। अपनी सावधानी में मांएं इस कदर मशगूल हो जाती हैं कि यह भूल जाती हैं कि उनके व्यवहार का बच्चों पर क्या प्रभाव पड़ रहा है।

तेजी से बदलते मौसम देख मांएं चिंतित हो जाती हैं। उनके पास केवल एक विकल्प बचता है और वो है अपने बच्चों की दैनिक गतिविधियों को नियंत्रित करके उन्हें सेहतमंद आहार के लिए मजबूर करना। इसके लिए उन्हें खाने-पीने की कई चीजों को न कहना पड़ता है। बार-बार ‘न’ सुनने का बच्चों के मनोविज्ञान पर क्या असर पड़ता है और बार-बार मना करने पर बच्चों के संपूर्ण विकास एवं उनके व्यक्तित्व पर क्या असर पड़ेगा, इस बारे में आइए, मनोवैज्ञानिक की राय जानें। मनोवैज्ञानिक डॉ. सपना जरवाल कहती हैं, “बच्चे बहुत संवेदनशील होते हैं। वे अपने माता-पिता को देखकर सीखते हैं, जिससे उनके व्यक्तित्व का विकास होता है। अपने माता-पिता से बार-बार ‘न’ सुनकर बच्चे झूठ बोलने या फिर अपने माता-पिता से चीजें छिपाने लगते हैं। इससे उनके आत्मविश्वास को नुकसान पहुंचता है और वे सामाजिक रूप से अलग रहने लगते हैं।”

आगे पढ़ें….

loading...
1
2
3
शेयर करें