जानिए SCIENCE की मदद से कहाँ हुई है बुद्ध की वापसी

काबुल : तालिबान ने सोचा था की उसने दुनिया के चमत्कारों में से एक को बर्बाद कर दिया है, लेकिन वह गलत साबित हुआ । SCIENCE  की मदद से बामियान की घाटी में वो आज फ़िर शान से रौशन हैं, जहाँ वो सदिओं मौजूद रहे थे। बुद्ध के यह स्टैचू आज फिर वहां हैं और ऐसा मुमकिन हुआ है  3 D लाइट प्रोजेक्शन टेक्नीक से।

ये भी पढ़ें : 5 जवान बच्चे, उम्र 60 साल, फिर भी दूसरी शादी को बेताब शख्स बिजली के खम्बे पर चढ़ गया

कभी दुनिया के सबसे बड़े बुद्ध के स्टैचू थे

आप को बताते चलें छटी शताब्दी में बने ये स्टेचू अपनी ख़ूबसूरती ,बेहद अनूठे डिज़ाइन और मैसिव साइज के लिए पूरी दुनिया में मशहूर थे। जिसे तालिबान ने मार्च 2001 में काफी नुकसान पहुंचाया था। हाल ही में अफ़ग़ानिस्तान में इन्हीं स्टैचू की याद में एक फेस्टिवल मनाया जिसमे सैकड़ों लोग शामिल हुए, जिसके बाद 3 D लाइट प्रोजेक्शन टेक्नीक से इन स्टेचू के हटने से खाली हुए स्पेस को बुद्धा के वर्चुअल स्टेचू से दोबारा सजा दिया गया।

हिस्ट्री लवर्स के लिए दुनिया के ख़ास लोकेशन में से एक रहा है बामयान

अफ़ग़ानिस्तान की 23 वर्षीय गुलसम ज़हरा ने bbc को दिए बयान में कहा क़ि आज का ये फेस्टिवल हमें एहसास करता है कि तालिबान की वजह से देश ने अपना कितना अज़ीम ख़ज़ाना खोया दिया है।

ये भी पढ़ें जानिए Mahashivratri 2021 का शुभ मूहरत, पूजा समाग्री में रखें इन चीजों का खास ध्यान

 

Related Articles