जानिए अरुण जेटली पर क्या-क्‍या आरोप लगाए आप ने

arun-jaitley_647_070515031342

नई दिल्‍ली। आम आदमी पार्टी ने आज वित्‍त मंत्री अरुण जेटली पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। पार्टी ने जेटली को डीडीसीए घोटाले का दोषी बताया और जांच की मांग की। साथ ही पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्डा ने कहा कि वित्त मंत्रालय और कंपनी मामलों का विभाग जेटली के जिम्मे है उनके पद पर रहते हुए निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती। इसलिए पार्टी ने उनके इस्‍तीफे की भी मांग की है।

ये भी पढें-  ‘आप’ फिजूल की बातें कर रही है, जेटली के इस्तीफे का सवाल नहीं

ये हैं ‘आप’ के आरोप

  1. डीडीसीए में पिछले 13-14 सालों में भ्रष्टाचार जारी है और अरुण जेटली की इसमें भूमिका है।
  2. वित्त मंत्री के कार्यकाल में डीडीसीए के स्टेडियम के लिए 24 करोड़ रुपये के बजट की स्वीकृति दी गई थी जबकि इसमें 114 करोड़ रुपये खर्च किए गए। कहां गए वह 90 करोड़ रुपये।
  3. डीडीसीए ने बड़े पैमाने पर पैसे की हेरा फेरी की है। डीडीसीए स्टेडियम की लागत भी बढ़ाई गई। फर्जी कंपनियों को भुगतान भी किया गया।
  4. फर्जी मुकदमेबाजी के मामले हैं। जहां अपने ही खिलाफ पैसे देकर मुकदमे कराए गए और फिर बचाव करने वाले वकील को अलग से पैसा दिया गया। यह डीडीसीए के पैसे को गबन करने की तारीका था।
  5. डीडीसीए मे बिना जरूरी मंजूरी के अनधिकृत निर्माण कराया गया। अनाधिकृत निर्माण एमसीडी की मंजूरी के बिना किया गया।
  6. डीडीसीए में चयनकर्ताओं को चुनने का कोई प्रक्रियागत ढांचा ही नहीं है। केवल अमीरों और बड़े लोगो के बच्चे ही डीडीसीए में खेल सकते है किसी आम आदमी का बच्चा नहीं।
  7. ऐसी कंपनियों को भुगतान किया गया जिन्होंने कभी कोई काम नहीं किया या जिसके लिए भुगतान किया गया। डीडीसीए के ऑडिट करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कई मुकदमे दर्ज किए गए हैं। यह बात खुद वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने संसद मे बताई है।
  8. डीडीसीए इंटरटेनमेंट टैक्स की चोरी कर रहा है। इसकी जांच कराने के लिए खेल मंत्रालय ने खुद दिल्ली सरकार को लिेखा है।
  9. 20,000 रुपये से ज्यादा के नगद भुगतान भी गलत तरीके से किये गये क्योंकि कानून के अनुसार किसी को 20,000 से ज्यादा नगद भुगतान नहीं किया जाना चाहिये।
  10. पार्टी ने सार्वजनिक तौर पर मांग की कि डीडीसीए के लंबे समय से खजांची रहे नरेंद्र बत्रा के साथ अरुण जेटली का क्या रिश्ता है? वह बताएं।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button