खुद भी पढ़ों और बच्चों को भी बता दो, February में क्यों होता है 28 दिन

हम जिस कैलेंडर का इस्तेमाल करते हैं वो एक रोमन कैलेंडर पर बना हुआ है। पुराने रोमन कैलेंडर में एक साल में सिर्फ 10 ही महीने हुआ करते थे।

नई दिल्ली: हर किसी के मन में एक सवाल तो चलता ही होगा कि आखिर फरवरी का महीना बाकि महीनों के हिसाब से छोटा क्यों होता है? मतलब की फरवरी में दिन कम क्यों होते हैं। अगर ऐसा ही कुछ सवाल आपके मन में भी है तो आज उसका उत्तर आपको मिलने वाला है। क्योंकि हम आपको बताने जा रहे हैं इसके पीछे का कारण-

Image result for February

बता दें कि हम जिस कैलेंडर का इस्तेमाल करते हैं वो एक रोमन कैलेंडर पर बना हुआ है। पुराने रोमन कैलेंडर में एक साल में सिर्फ 10 ही महीने हुआ करते थे। इन  10 महीनों के अनुसार साल में सिर्फ 304 दिन होते थे। लेकिन बाद में इस कैलेंडर में 2 महीने और जोड़ दिए गए और इन महीनों को नाम दिया गया जनवरी और फरवरी। ऐसा करने पर एक साल में 12 महीने तो हो गए। लेकिन इस कैलेंडर को लेकर काफी विवाद होने लगा। त्योहारों को लेकर लोगों ने विवाद किया कि त्यौहार अपने समय पर नहीं आ पा रहे हैं। इस वजह कैलेंडर में थोड़ा बदलाव करते हुए फरवरी महीने से 2 दिन कम किया गया और साल में 365 दिन तय हो गए।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि यह कैलेंडर पृथ्वी और सूर्य की परिक्रमा के अनुसार बनाया गया था क्योंकि पृथ्वी को सूर्य का चक्कर लगाने में 365 दिन और 6 घंटे का समय लगता है। ऐसे में हर साल 6 घंटे एक्स्ट्रा बच जाते हैं जो 4 साल बाद 24 घंटे यानि एक दिन में बदल जाते हैं। इसी वजह से फरवरी के महीने में 28 या 29 दिन होते हैं।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने दक्षिण अफ्रीका को अपने घरेलू मैदान में किया क्लीन स्वीप

जाते-जाते आपको बता दें कि फरवरी में 28 दिन और हर चार साल में 29 दिन को लेकर कई अलग-अलग कहानियां मौजूद हैं। वहीं कुछ लोग फरवरी महीने को अशुभ महीना भी बताते हैं। जिसके पीछे तर्क ये दिया जाता है कि इस महीने में ही रोम में मृत आत्माओं की शांति और पवित्रता कार्य किए जाते थे। यहां तक कि पुरानी सेबाइन जनजाति की भाषा में फेब्रुअरे का मतलब पवित्र करना होता है।

यह भी पढ़ें: PM मोदी ने सरकार की आलोचना करने वालों को दिया करारा जवाब

Related Articles