IPL
IPL

जानिए क्यों कांग्रेस को असम के इलेक्शन के वक़्त याद आने लगता है 244(A)

दिसपुर :हल ही में जारी अपने एक वीडियो मैसेज में कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने कहा है की अगर पार्टी सत्ता में आती है तो सबसे पहले 244(A) को लागु किया जाएगा। कांग्रेस द्वारा 1969 में कंस्टीटूशन में शामिल किया गया आर्टिकल 244 (ए) असम के ट्राइबल डोमिनेटेड क्षेत्रों को ऑटोनोमस ज़ोन्स बनाने के मकसद से लाया गया था।

सिक्स्थ शेड्यूल के होते हुए लाया गया था 244(A)

संविधान की छठी अनुसूची के आर्टिकल 244 (2) और 275 (1)  एक खास प्रावधान है जो नार्थ ईस्ट के कुछ हिस्सों को डी-सेंट्रलाइज्ड गवर्नेंस की छूट देते है। अब अगर असम की बात करें तो अभी इसके कार्बी आंगलोंग, वेस्ट कार्बी, दीमा हसाओ और बोडो एडमिनिस्ट्रेटिव रीजन सिक्स्थ शेड्यूल के अंडर आते हैं। जबकि 244(A) इन ट्राइबल एरियाज को और अधिक ऑटोनोमस अथॉरिटी प्रदान करता है।

इलेक्शन के वक़्त उठने लगती है इसे लागू करने की मांग

आप की जानकारी के लिए बताते चलें की 1950 के दशक में अन डिवाइडेड असम से ट्राइबल में अपने सेपरेट स्टेट की मांग उठना शुरू हो गई थी। जिसका नतीजा यह हुआ की 1972 में असम टूटा और मेघालय का जन्म हुआ। उस वक्त असम के चाचार हिल और कारबी आंगलोंग के लोग भी इसमें शामिल थे।

उन्हें असम के बटवारे के वक़्त ऑप्शन दिया गया था की वह चाहे तो असम या मेघालय कहीं भी जा सकते हैं। लेकिन चाचार हिल और कारबी आंगलोंग के लोग कांग्रेस के Article 244 (A) के प्रॉमिस पर असम में ही रुक गए। तब से स्टेट में इस को लागू करने की मांग उठती रहती है। इसी को लेकर 1980 में कई हिंसक आंदोलन भी हुए हैं।

और अब चुनाव के मद्देनज़र राहुल गाँधी इस मुद्दे को फिर से हवा देकर अपनी कुर्सी साधने की फ़िराक में हैं।

यह भी पढ़ें : नानक जी की Equality की सीख को मिली यूनाइटेड नेशंस की वीडियो में जगह

 

Related Articles

Back to top button