कोलकाता पुलिस ने ‘सुकन्या’ परियोजना का तीसरा संस्करण किया शुरू

कोलकाता: कोलकाता पुलिस ने ‘सुकन्या परियोजना का तीसरा संस्करण शुरू किया है। परियोजना का उद्देश्य शहर के स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ने वाली लड़कियों को आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्रदान करना है। सरकार ने सुकन्या समृद्धि खाता नियम, 2016 में संशोधन किया है, इसमें कहा गया है कि इस खाते को खोलने के लिए अब 250 रुपये ही जमा कराने की जरूरत होगी| साथ ही सालाना इस खाते में 1,000 रुपये के बजाय 250 रुपये जमा कराने की ही अनिवार्यता होगी|इस योजना के तहत किसी दस साल से कम उम्र की किसी भी लड़की के माता-पिता या कानूनी अभिभावक यह खाता खोल सकते हैं| सरकारी अधिसूचना के अऩुसार यह खाता किसी डाकघर शाखा या अधिकृत सरकारी बैंक की शाखा में खोला जा सकता है|

‘सुकन्या’ का तीसरा बैच कोलकाता पुलिस के अधिकार क्षेत्र में स्थित 100 शहर-आधारित स्कूलों और कॉलेजों में शुरू किया गया। सुकन्या परियोजना शहर के स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों की छात्राओं को आत्मरक्षा प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए कोलकाता पुलिस के कम्युनिटी पुलिसिंग विंग की एक पहल है। यह पहल राज्य सरकार के महिला एवं बाल विकास और समाज कल्याण विभाग द्वारा वित्त पोषित है। सुकन्या समृद्धि खाते पर ब्याज दरों को अन्य लघु बचत योजनाओं और पीपीएफ की तरह प्रत्येक तिमाही में संशोधित किया जाता है| जुलाई-सितंबर की तिमाही के लिए ब्याज दर 8.1 प्रतिशत तय की गई है|

योजना के तहत यह खाता खोलने की तारीख से 21 साल तक वैध रहेगा, उसके बाद यह परिपक्व होगा और और उस लड़की को इसका भुगतान किया जाएगा जिसके नाम पर खाता खोला गया है| खाता खोलने की तारीख से 14 साल तक इसमें राशि जमा कराई जा सकती है, उसके बाद खाते पर उस समय लागू दरों के हिसाब से ब्याज मिलेगा|

Related Articles