अपनी नौकरी बचाने में कामयाब रहीं kristalina georgieva

स्वीडन : इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड की चीफ Kristalina Georgieva अपनी जॉब बचाने में सफल रही हैं। हालांकि, उन्हें अब आईएमएफ की साख बचाने की बड़ी चुनौती का सामना करना होगा।आपको बता दें क्रिस्टालिना पर 2017 में चीन के पक्ष में एक रिपोर्ट को बदलने के लिए का आरोप लगा था।

Kristalina Georgieva पर चीन की सहानुभूति के लगे थे आरोप

इस कड़ी में आईएमएफ के बोर्ड ने इस आरोप पर विचार करने के बाद क्रिस्टालिना पर अपना पूरा विश्वास जताया था। वॉशिंगटन में हुई एजेंसी की मीटिंग में दुनिया के कई देशों के फाइनेंस मिनिस्टर और सेंट्रल बैंकों के अधिकारी शामिल हुए थे। इस कड़ी में अब क्रिस्टालिना को यह दिखाना होगा कि आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक से जुड़ा डेटा पूरी तरह सुरक्षित है और इसमें राजनेताओं की ओर से कोई हस्तक्षेप नहीं होता। हालांकि, डेटा को लेकर गड़बड़ी के आरोपों के बाद वर्ल्ड बैंक ने ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रिपोर्ट को बंद कर दिया है।

इस कड़ी में आईएमएफ की चीफ इकोनॉमिस्ट गीता गोपीनाथ ने एक इंटरव्यू में कहा है कि IMF के डेटा की सुरक्षा बहुत महत्वपूर्ण है और उन्हें इसके प्रोसेस पर विश्वास है। क्रिस्टालिना को आईएमएफ में अमेरिका और यूरोप के दबदबे को कम करने के लिए भी जूझना होगा। इसके साथ ही उन पर IMF के स्टाफ का मनोबल बरकरार रखने की जिम्मेदारी होगी।

यह भी पढ़ें : हांगकांग में नज़र आये Alibaba Group चीफ जैक मा

Related Articles