Kumar Vishwas की ये कविता सुना दी, तो आपको दिल दे बैठेगी आपकी सपनों की रानी

आज कुमार विश्वास 51 साल के हो गए हैं। तो उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको बता रहे हैं उनकी मशहूर कविताओं के बारे में। आप भी पढ़िए और अपने पार्टनर को भी सुनाइये।

नई दिल्ली: वैलेंटाइन वीक चल रहा है और इसी बीज कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) का जन्मदिन एक संजोग बन गया है। क्योंकि कुमार विश्वास की कविता सुनकर ही तो आपके दिल में भी उनका नाम जोरों से धड़कने लगता है। उनकी बोली हुई हर लाइन में आप भी अपनी प्रेमिका के चेहरे को ही तो देख रहे होते हैं। तो इस वैलेंटाइन डे पर सुना दीजिए अपनी गर्लफ्रेंड को कुमार विश्वास की ये कविता। आपको ही सुनती रह जाएंगी आपकी गर्लफ्रेंड।

बता दें कि आज कुमार विश्वास (Kumar Vishwas) 51 साल के हो गए हैं। तो उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको बता रहे हैं उनकी मशहूर कविताओं के बारे में। आप भी पढ़िए और अपने पार्टनर को भी सुनाइये।

Image result for love

1 – पूरा जीवन बीत गया है,

बस तुमको गा,भर लेने में—

हर पल कुछ कुछ रीत गया है,

पल जीने में, पल मरने में,

इसमें कितना औरों का है,

अब इस गुत्थी को क्या खोलें,

गीत, भूमिका सब कुछ तुम हो,

अब इससे आगे क्या बोलें… …

यों गाया है हमने तुमको

2 – मन तुम्हारा ! हो गया

तो हो गया ….

एक तुम थे

जो सदा से अर्चना के गीत थे,

एक हम थे

जो सदा से धार के विपरीत थे

ग्राम्य-स्वर

कैसे कठिन आलाप नियमित साध पाता,

द्वार पर संकल्प के

लखकर पराजय कंपकंपाता

क्षीण सा स्वर

खो गया तो, खो गया

मन तुम्हारा !

हो गया

तो हो गया………

 

3 – लाख नाचे

मोर सा मन लाख तन का सीप तरसे,

कौन जाने

किस घड़ी तपती धरा पर मेघ बरसे,

अनसुने चाहे रहे

तन के सजग शहरी बुलावे,

प्राण में उतरे मगर

जब सृष्टि के आदिम छलावे

बीज बादल

बो गया तो, बो गया,

मन तुम्हारा!

हो गया

तो हो गया…….

यह भी पढ़ें: चाची ने की अपने ही भतीजे की हत्या, वजह जान हो जाएंगे हैरान

4 – मेरे जीने मरने में,

तुम्हारा नाम आएगा.

 

मैं सांस रोक लू फिर भी,

यही इलज़ाम आएगा.

 

हर एक धड़कन में जब तुम हो,

तो फिर अपराध क्या मेरा,

अगर राधा पुकारेंगी,

तो घनश्याम आएगा।

यह भी पढ़ें: FINALE से पहले ही विनर का नाम Declare, इनके सिर सजेगा BIGG BOSS 14 का ताज!

Related Articles

Back to top button