नख्खास मार्केट के बाहर पटरी दुकानो मे लगी भीषण आग से लाखो का नुकसान

0
लखनऊ।  पुराने लखनऊ मे नख्खास मार्केट के बाहर लगने वाली दो दर्जन से ज़्यादा पटरी दुकानो मे शुक्रवार केी सुबह तड़के अचानक भीषण आग लगने से करीब 26 दुकाने और दुकानो के अन्दर रखा सामान जल कर स्वाहा हो गया। सड़क के किनारे लगने वाली दुकानो मे आग लगने का कारण बिजली के तारो मे शार्ट सर्किट होना बताया जा रहा है। फायर ब्रिगेड की आधा दर्जन गाड़ियो की मदद से ढाई घंटे की मशक्कत के बाद आग को बुझा दिया गया लेकिन इन ढाई घंटो मे आग मे स्वाहा हुई दुकानो के मालिको की खुशिया भी जला कर राख कर दी। विक्टोरिया स्ट्रीट फुटपाथ व्यापारी कल्याण समिति ने आग मे तबाह हुए दुकानदारो को सरकार से मुआवज़ा दिए जाने की माॅग की है। आग लगने से 70 से 80 लाख रूपए के नुकसान की बात कही जा रही है।
    जानकारी के अनुसार शुक्रवार सुबह करीब पाॅच बजे अक्बरी गेट चिड़िया बाज़ार के सामने नख्खास मार्केट के बाहर सड़क के किनारे लगने वाली दो दर्जन से ज़्यादा पटरी दुकानो मे अचानक आग लगने से हड़कम्प मच गया। आग लगने के बाद स्थानीय लोगो ने पुलिस को सूचना दी तो पुलिस तत्काल मौके पर पहुॅच गई लेकिन लोगो का आरोप है कि फायर ब्रिगेड को फोन मिलाया जाता रहा और फोन रिसीव नही हुआ स्थानीय लोगो का आरोप है कि दुकानो मे आग लगने के बाद कुछ लोग मोटर साईकिलो से चैक फासर स्टेशन पहुॅचे और आग लगने की सूचना दी तो दमकल की गाड़ियो के इन्जन स्टार्ट हुए। सुबह के समय दुकानो मे आग लगने से मोहम्मद आसिम की रेडीमेड दुकान आकिब रेडीमेड मंजू की अन्डर गार्मेन्ट सालिग ,समीर, वसीम अन्वर अली , फैसल, रज़िया और फहीम की चूड़ी की दुकाने जल कर राख हो गई आग की चपेट मे मुमताज की पर्स की दुकान हशमत अली ,शौकत अली, अकिब की दुकाने भी आग की ज़द मे आई इसके अलावा अलताफ , मेराज, इन्तिज़ार शेरू, उसमान शहरून मोहम्मद मतीन की दुकाने भी पूरी तरह से तबाह हो गई । आग मे न चूड़ी की दुकाने बची न क्राकरी की न रेडीमेड की न प्लास्कि और स्टील के बर्तनो की दुकाने बची ।
             आग से तबाह हुए कुछ लोगो का कहना था कि आग लगने के बाद यहा मौजूद लोगो ने बिजली विभाग को फोन मिलाए ताकि बिजली के तारो मे दौड़ रहे करन्ट को बन्द किया जा सके लेकिन किसी ने फोन रिसीव ही नही किया। विक्टोरिया स्ट्रीट फटपाथ व्यापारी कल्याण समिति के अध्यक्ष मोहम्मद मेराज ने बताया कि आग लगने से कुल 27 दुकाने पूरी तरह से जल कर राख हो गई उन्होने बताया कि अनुमान के अनुसार आग लगने के कारण दुकानदारो का 70 से 80 लाख रूपए का नुकसान हुआ है। श्री मेराज ने कहा कि हमारी सरकार से मांग है कि आग से तबाह हुए पटरी दुकानदारो को दोबारा कारोबार शुरू करने के लिए मुआवज़ा दिया जाए ताकि दुकानदार अपने परिवार का भरण पोषण कर सके। इन्स्पेक्टर चाौक प्रमोद कुमार मिश्रा ने बताया कि आग लगने से करीब 15 दुकाने जली है उन्होने बताया कि दमकल की पाॅच गाड़ियो ने आग को बुझाया इन्स्पेक्टर का कहना है कि दुकानदार 30 दुकाने जलने की बात लिख कर दे रहे है लेकिन मौके पर देखने से लगता है कि 15 दुकाने ही जली है। स्थानीय लोगो का कहना है कि आग उस समय लगी जब सभी दुकाने बन्द थी यही हादसा अगर दिन के समय होता तो जनहानि का खतरा भी था शुक्र है कि आग लगने से सिर्फ धनहानि हुई है किसी तरह की जनहानि नही हुई।
loading...
शेयर करें