मनसुख हिरेन की हत्या के लिए आरोपियों को दिए थे लाखों रुपये

गौरतलब है कि, 25 फरवरी को बिजनेस टाइकून मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर विस्फोटकों से लदी एक एसयूवी संदिग्ध रूप से खड़ी मिली थी।

मुंबई: एंटीलिया बम मामले के एक बड़े घटनाक्रम में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मंगलवार को मुंबई की एक विशेष अदालत को बताया कि ठाणे के व्यवसायी मनसुख हिरेन की हत्या के लिए एक आरोपी को 45 लाख रुपये का भुगतान किया गया था। वहीं एनआईए ने कोर्ट से मामले में चार्जशीट दाखिल करने के लिए 30 दिन का समय मांगा है।

गौरतलब है कि, 25 फरवरी को बिजनेस टाइकून मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर विस्फोटकों से लदी एक एसयूवी संदिग्ध रूप से खड़ी मिली थी। एसयूवी का मालिक हिरेन था, जिसने पहले पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उसकी कार चोरी हो गई है। 5 मार्च को ठाणे के रेती बंदर में हिरेन का शव मिला था। उनकी मौत की जांच महाराष्ट्र आतंकवाद विरोधी दस्ते द्वारा की जा रही थी। बाद में गृह मंत्रालय ने इसे एनआईए को सौंप दिया।

बता दें कि 7 अप्रैल को एनआईए ने विशेष अदालत को बताया था कि हिरेन अंबानी के आवास के बाहर विस्फोटकों से लदी एसयूवी लगाने में निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वेज़ के साथ सह-साजिशकर्ता था। एजेंसी ने कहा कि हिरेन द्वारा दर्ज की गई कार चोरी की शिकायत पुलिस को धोखा देने और एक बड़ी योजना का हिस्सा थी।

यह भी पढ़ें: ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में अवंता ग्रुप के प्रमोटर को किया गिरफ्तार

Related Articles