CBI से बचने के लिए अरुण जेटली के पास आए थे लालू – सुशील मोदी

बीजेपी के नेता सुशील कुमार मोदी ने बुधवार को हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बड़ा खुलासा किया है. सुशील मोदी ने कहा कि जब झारखंड हाईकोर्ट ने लालू यादव  के पक्ष में फैसला दिया कि चारा घोटाले से जुड़े अन्य मामलों में अलग से मुकदमे की कोई आवश्यकता नहीं है तो सीबीआई  इस फैसले को चुनौती देने के लिए सुप्रीम कोर्ट  गई और इस दौरान लालू प्रसाद ने अपने दूत प्रेम गुप्ता को अरुण जेटली के पास भेजा. लालू प्रसाद के उस संदेशे में कहा गया कि आप सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट में अपील करने से रोकें. उन्होंने कहा कि अगर उन्हें इस मामले में मदद मिलती है तो ’24 घंटे में नीतीश कुमार का इलाज कर दूंगा.’

सुशील मोदी ने कहा कि बाद में लालू यादव और प्रेम गुप्ता दोनों अरुण जेटली से मिले और नीतीश सरकार को गिराने की पेशकश की. हालांकि अरुण जेटली ने साफ तौर पर कह दिया कि हम सीबीआई के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं कर सकते क्योंकि यह एक स्वायत्त संस्थान है.

इससे पहले सुशील मोदी ने शनिवार को कहा था कि जेल में बंद आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद की आत्मकथा एक घटिया किताब है जो तथ्यात्मक गलतियों से भरी है. उन्होंने पटना में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए दावा किया था, ‘मैंने आत्मकथा पढ़ी है. यह एक घटिया किताब है.’

Related Articles