लालू के लाल बनेंगे बिहारियों के राजा, कल खुलेगा किस्मत का पिटारा

लालू के लाल बनेंगे बिहारियों के राजा, कल खुलेगा किस्मत का पिटारा

पटना:बिहार में 243 विधानसभा सीट पर हुये चुनाव में कई दिग्गज राजनेता समेत राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के दो लाल तेजस्वी यादव एवं तेज प्रताप यादव की किस्मत का फैसला कल हो जाएगा।

बिहार विधानसभा चुनाव में प्रत्याक्षियों की सूची

इस बार के चुनाव में जिन दिग्गजों के भाग्य का निर्णय मंगलवार को होने वाला है उनमें विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव, उनके बड़े भाई एवं पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव, नीतीश सरकार के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, श्रम संसाधन मंत्री, विजय कुमार सिन्हा, ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री जय कुमार सिंह, खनन मंत्री बृजकिशोर बिंद, परिवहन मंत्री संतोष कुमार निराला, राजस्व मंत्री रामानारायण मंडल, शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह, ऊर्जा, मद्य निषेध, उत्पाद और निबंधन मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, विधि मंत्री नरेंद्र नारायण यादव।

अन्य दल के प्रत्याक्षी

अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण मंत्री रमेश ऋषिदेव, योजना एवं विकास मंत्री महेश्वर हजारी, नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा, खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद, लक्ष्मेश्वर राय, बीमा भारती, मदन सहनी, प्रमोद कुमार, विनोद नारायण झा, कृष्ण कुमार ऋषि, दिवंगत नेता एवं पूर्व मंत्री विनोद सिंह की पत्नी निशा सिंह, कपिलदेव कामत की बहू मीना कामत, लालू यादव के समधी चंद्रिका राय, कांग्रेस नेता एवं अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा के पुत्र लव सिन्हा, राजद के प्रधान महासचिव एवं पूर्व मंत्री आलोक कुमार मेहता, पूर्व सांसद लवली आनंद, पूर्व सांसद रामा सिंह की पत्नी बीना सिंह, विपक्ष के कद्दावर नेता अब्दुल बारी सिद्दिकी और रमई राम, जन अधिकार पार्टी सुप्रीमो पप्पू यादव, विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी प्रमुख हैं।

ईवीएम में कैद किस्मत

वैशाली जिले की राघोपुर सीट पर (राजद) नेता एवं महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी प्रसाद यादव की इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में कैद किस्मत का फैसला कल हो जाएगा। राघोपुर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार की परंपरागत सीट मानी जाती है

तेजस्वी यादव का चुनावी मुकाबला

वर्ष 1995 से वर्ष 2000 तक यहां यादव और उनकी पत्नी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का कब्जा रहा था। इस बार इस सीट से तेजस्वी यादव ने फिर से किस्‍मत आजमाई है। तेजस्वी यादव का मुकाबला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रत्याशी और पूर्व विधायक सतीश कुमार यादव के साथ लगातार दूसरी बार हुआ। वर्ष 2015 में तेजस्वी यादव ने क्रिकेट की दुनिया छोड़ इस सीट से जीत दर्ज कर राजनीति में शानदार आगाज किया था। उस समय जदयू के निवर्तमान विधायक सतीश कुमार यादव ने विद्रोह का बिगुल फूंकते हुए भाजपा का दामन थाम लिया था।

हॉट सीट में शुमार हसनपुर का चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव में हॉट सीट में शुमार हसनपुर का चुनाव कई मायनो में अहम है। कद्दावर नेता लालू प्रसाद यादव और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के बड़े लाल तेज प्रताप यादव ने राजद की पारम्परिक वैशाली जिले के महुआ की जगह इस बार हसनपुर से ताल ठोका हैं। वर्ष 2015 में मचुनाव जीत चुके हैं।

पटना साहिब सीट पर भाजपा नेता

पटना साहिब सीट पर भाजपाहुआ सीट से अपनी सियासी पारी का शानदार आगाज करने वाले तेज प्रताप का मुकाबला जदयू के निवर्तमान विधायक और चुनावी पिच पर जीत की ‘हैट्रिक’ जमाने की कोशिश में लगे राजकुमार राय से हुआ है। गया सीट से चुनाव लड़ चुके भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कद्दावर नेता और कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार अपने भाग्य का पर्चा खुलने का इंतजार कर रहे हैं।

यह भी पढ़े:IPL-13 के खिताबी मुकाबले में मुंबई और दिल्ली में होगा महासंग्राम

यह भी पढ़े:यूपी के सबसे प्रदूषित शहरों में आगरा टॉप पर, गाजियाबाद दूसरे नंबर पर

Related Articles

Back to top button