बिहार में ‘लालटेन’ खत्म, 10 नवंबर को ‘चिराग’ भी बुझ जाएगा: राजग

नीरज कुमार ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) एवं प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव से पूछा कि उनके पिता एवं पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की सरकार में फिरौती के लिए जो अपहरण होते थे और जिसे एक उद्योग के रूप में खड़ा किया गया था

पटना: बिहार राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) अध्यक्ष चिराग पासवान को महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी प्रसाद यादव का पिट्ठू बताया और कहा कि राज्य में ‘लालटेन’ का अस्तित्व समाप्त हो चुका है और 10 नवंबर को ‘चिराग’ भी बुझ जाएगा.

राजग के घटक दल जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के वरिष्ठ नेता और सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार ने हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के प्रवक्ता दानिश रिजवान, जदयू प्रवक्ता अजय आलोक और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रवक्ता अफजल शम्सी के साथ शनिवार को यहां संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज्य में लालटेन (राजद का चुनाव चिन्ह) का अस्तित्व समाप्त हो चुका है और 10 नवंबर को ‘चिराग’ भी बुझ जाएगा.

नीरज कुमार ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) एवं प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव से पूछा कि उनके पिता एवं पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की सरकार में फिरौती के लिए जो अपहरण होते थे और जिसे एक उद्योग के रूप में खड़ा किया गया था, उसमें कौन-कौन भागीदार थे. उन्होंने यादव को चुनौती देते हुए कहा कि वह अपने पिता के कार्यकाल में हुए अपहरणों पर श्वेतपत्र जारी कर बिहार की जनता को बताएं कि उस समय तीन हजार 91 लोगों के अपहरण के पीछे कौन थे और ऑपरेशन ब्लैक पैंथर चलाने वाले का क्या हुआ.

यह भी पढ़े: झांसी: धूमधाम से मनायी गयी सरदार पटेल और महर्षि वाल्मीकि जयंती

Related Articles

Back to top button