खुलासा: लश्कर ने किया था अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला, तीन आतंकवादी गिरफ्तार

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले का मामला अब पूरी तरह से सुलझ गया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मामले को सुलझाने में कामयाबी हासिल करते हुए खुलासा किया है कि इस हमले में लश्कर आतंकियों का हाथ है। पुलिस ने मामले पर से पर्दा उठाते हुए तीन आतंकियों को भी गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें: बीजेपी ने रचा इतिहास: चारों सबसे बड़े संवैधानिक पदों पर हुआ एकछत्र राज्य

हालांकि, अभी भी पुलिस मामले के मास्टर माइंड अबू इस्माइल और उसके दो साथी को गिरफ्तार करने में कामयाब नहीं हो पाई है। पुलिस इन आरोपियों की तलाश में जुटी है। इस मामले में पुलिस ने जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया है उनमें से 2 पाकिस्तानी और और 1 कश्मीरी है।

अगली स्लाइड ने पढ़ें: मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने क्या कहा 

पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया है कि पहले आतंकी इस मामले को अंजाम देने के लिए नौ जुलाई का दिन निर्धारित किया था, लेकिन सीआरपीएफ या यात्रियों का कोई वाहन नहीं मिलने पर उन्हें अपने प्लान में तबदीली लानी पड़ी और उन्होंने अगले दिन 10 जुलाई को इस हमले को अंजाम दिया।

यह भी पढ़ें: हरियाणा : IAS की बेटी को छेड़ने के तुरंत बाद बीजेपी चीफ के बेटे को मिली जमानत, पीड़िता ने फेसबुक पर बयां किया दर्द

आईजी मुनीर खान ने कहा कि सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा। तीनों आरोपियों ने सभी बातों का खुलासा कर दिया है। आतंकियों ने यात्री वाहन के लिए ‘शौकत’, CRPF वाहन के लिए ‘बिलाल’ कोड वर्ड दिया। ये पूरी तरह से आतंकी हमला था। लश्कर कमांडर अबु दुजाना के बाद अबु इस्माइल को ही लश्कर की कमान सौंपी गई है।

पुलिस को इस मामले में पहली सफलता तब हासिल हुई थी जब पुलिस ने ओवर ग्राउंड वर्कर्स के एक पूरे जत्थे को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने इन वर्कर्स को बिना हथियार वाले आतंकी करार दिया।  बताया जा रहा है कि इन आतंकियों ने ही अमरनाथ यात्रियों पर हमले के लिए फंड की व्यवस्था की थी।

आगे पढ़ें: आतंकियों ने कैसे इस घटना को दिया था अंजाम 

पुलिसिया सूत्रों का कहना है कि ओवर ग्राउंड वर्कर्स की जानकारी पुलिस को कॉल डिटेल से हुई थी। ये आपसी बातचीत में कोर्ड वर्ड्स का इस्तेमाल करते थे, जिससे पुलिस का ध्यान इस ओर गया। वहीं पुलिस से बचने के लिए ये आतंकी आसपास के घरों या फिर नालियों में छुप जाया करते थे।

यह भी पढ़ें : लड़के ने फेसबुक पर शेयर की अपनी तस्वीर तो पुलिस ने भेज दिया जेल…जाने क्यों

आपको बता दें कि अनंतनाग जिले में बीते 10 जुलाई को आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों पर हमला बोल दिया था इस घटना में सात लोगों की मौत हो गई थी जबकि 19 घायल हो गए थे। ये आतंकी मोटरसाइकिल पर सवार थे और यात्रियों की बस पर अंधाधुध फायरिंग करने के बाद मौके से फरार हो गए थे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button