नेता-मंत्री को लगा झटका, केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षा मंत्रालय को लेकर बड़ा फैसला

लखनऊ: केंद्र सरकार (central government) ने केंद्रीय विद्यालयों (Kendriya Vidyalayas) में शिक्षा मंत्रालय का कोटा खत्म करने का बड़ा फैसला किया है। केंद्रीय विद्यालयों (Kendriya Vidyalayas) में अब सांसदों के 10 कोटे के अलावा किसी नेता या मंत्री की सिफारिश पर बच्चों का दाखिला नहीं हो पाएगा। अब सिर्फ सांसदों के पास ही अपने क्षेत्र में 10 दाखिल कराने का अधिकार बचा है।

सूत्रों के मुताबिक, अब सिर्फ सांसदों के पास ही अपने क्षेत्र में 10 एडमिशन कराने का अधिकार बचा है। यूपीए सरकार में कपिल सिब्बल के शिक्षा मंत्री रहते हुए उस वक्त भी ऐसा ही फैसला लिया गया था लेकिन तब विरोध के बाद यह फैसला वापस ले लिया गया था। अब केंद्र सरकार ने केंद्रीय विद्यालयों में एडमिशन में सांसदों के अलावा बाकी सब कोटा खत्म करने का फैसला किया है।

इस फैसले की जानकारी सांसदों को दी जा रही है ताकि वह 10 बच्चों के अलावा और किसी एडमिशन के लिए शिक्षा मंत्रालय में सिफारिश ना भेजें। लोकसभा के सांसद अपने लोकसभा क्षेत्र में आने वाले केंद्रीय विद्यालयों में अधिकतम 10 बच्चों के एडमिशन की सिफारिश कर सकते हैं। इसी तरह राज्यसभा सांसद अपने राज्य के किसी भी केंद्रीय विद्यालय में अधिकतम 10 बच्चों का एडमिशन करा सकते हैं।

Related Articles