जानें इस भारतीय Video मेकिंग एप के बारे में सबकुछ जो यूजर्स को वीडियो बनाने के लिए दे रहा है पैसे

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के चलते चीन की जो तस्वीर बनकर सामने आयी है उससे ड्रैगन को काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है. दूसरी तरफ लद्दाख में भारत के साथ चल रहे सीमा विवाद के बाद चीन की मुश्किलें और बढ़ गई है. बताना चाहते हैं कि भारत में ‘मेड इन चाइना’  प्रोडक्ट को टक्कर देने और उसे रिप्लेस करने की होड़ लगी हुई है. प्रधानमंत्री मोदी के भारतीय प्रोडक्ट के प्रमोट करने की अपील का असर दिखने लगा है. इस अपील के चलतेचीनी एप टिक टॉक को काफी नुकसान देखने को मिल रहा है.

इसी कड़ी में भारतीय एप चिंगारी को एक लाख से अधिक यूजर्स ने डाउनलोड करते हुए सब्सक्राइब किया है. चिंगारी एप भारतीय मित्रों एप को कड़ी टक्कर दे रहा है जो कि चीनी एप टिक टॉक के विकल्प के रूप में उभर कर आया है.  चिंगारी एप का एक नया विकल्प है. इसे गूगल प्ले स्टोर पर तेजी से डाउनलोड किया जा रहा है. जिससे इसके यूजर्स की संख्या बढती जा रही है.

चिंगारी एक वीडियो-ऑडियो बेस्ड फ्री सोशल एप है. यह यूजर्स को डाउनलोड और वीडियो अपलोड करने का आप्शन प्रदान करता है. इसके साथ ही ये वीडियो बनाने वाले यूजर्स को पैसे भुगतान करता है. चिंगारी एप अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला, गुजराती, मराठी, कन्नड़, पंजाबी, मलयालम, तमिल और तेलुगु भाषाओं में उपलब्ध है.

उल्लेखनीय है कि चिंगारी एप को वर्ष 2019 में बिश्वात्मा नायक और सिद्धार्थ गौतम नामक बेंगलुरु के दो प्रोग्रामर ने बनाया हुआ हुआ. यह एप चीनी टिकटॉक की तरह ही यूजर्स को शॉर्ट वीडियो बनाने और पोस्ट करने के लिए पैसे कमाने का विकल्प देता है.

Related Articles