कैशलेस इकोनॉमी की दिशा में जानें मोबाइल से लेनदेन में कितने फीसद का होगा इजाफा

नई दिल्ली: नकदी रहित लेनदेन की दिशा में देश तेजी से कदम बढ़ा रहा है। मोबाइल फोन इसमें बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। इसकी एक झलक एसएंडपी ग्लोबल मार्केट इंटेलीजेंस की रिपोर्ट से सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक 2019 में खाते से खाते में पैसे का ट्रांसफर और दूसरे माध्यमों में मोबाइल फोन एप से होने वाले भुगतान में 163 परसेंट का उछाल आया है। इंडिया मोबाइल पेमेंट मार्केट नाम से जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 में मोबाइल से कुल 28,700 करोड़ डॉलर (करीब 21.8 लाख करोड़ रुपये) का लेनदेन किया गया।

ऑनलाइन और एप्स के जरिये डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से किए गए लेनदेन में भी 24 परसेंट का इजाफा हुआ है। समीक्षाधीन अवधि के दौरान इन तरीकों से 20,400 करोड़ डॉलर (करीब 15.5 लाख करोड़ रुपये) का लेनदेन किया गया। पॉइंट ऑफ सेल और ऑनलाइन किए गए खुदरा भुगतान में मोबाइल फोन की लोकप्रियता काफी बढ़ी है। इस दौरान खातों में पैसा भेजने, मोबाइल फोन अकाउंट रिचार्ज और यूटिलिटी बिल के भुगतान में मोबाइल फोन एप्स का जमकर उपयोग हुआ है।

बता दें की समीक्षाधीन अवधि में ऐसा पहली बार हुआ है, जब एटीएम से पैसे निकालने की जगह कार्ड और मोबाइल आधारित भुगतान ज्यादा हुए हैं। इस दौरान एक बार एटीएम से पैसे निकालने के मुकाबले कार्ड और मोबाइल से होने वाले भुगतान दो से अधिक रहे हैं। कैशलेस इकोनॉमी की दिशा में 2019 बहुत बेहतर रहा है। दिसंबर, 2019 में खत्म हुई तिमाही के अंत में कार्ड और मोबाइल एप्स के जरिये होने वाला लेनदेन जीडीपी का 20 फीसद हो गया। यूपीआइ के माध्यम से होने वाले भुगतान में गूगल-पे और फोनपे जैसे एप ने अग्रणी भूमिका निभाई है। समीक्षाधीन अवधि में हुए कुल भुगतान में इन दोनों का हिस्सा करीब दो-तिहाई रहा|

Related Articles

Back to top button