जानें इस डांसर ने क्यों कहा, ‘खतरों के खिलाड़ी में डर का सामना करना, रोज आत्महत्या’

टीवी के जाने माने और फिल्मों के डांस गुरु धर्मेश येलांदे ने अपनी प्रतिभा में एक और कला को मौजूद कर लिया है। असल में ‘खतरों के खिलाड़ी’ के 10वें सीजन में सबसे बढ़िया प्रदर्शन करने वालों में धर्मेश का नाम काफी ऊपर है परन्तु ‘खतरों के खिलाड़ी’ में रोज डर का सामना करना धर्मेश को रोज आत्महत्या करने जैसा लगता है। धर्मेश कहते हैं की, ‘आप जितनी भी तैयारी करके जाओ, परन्तु वहां सब धरी रह जाती है। धमाके के बीच में खड़े रहना, बिना दरवाजे के हेलीकाप्टर से नीचे फेंकना।

सुरक्षा सब है पर टास्क करने के लिए दिल तो गवाही नहीं देता न। हर रोज चुनौतीपूर्ण टास्क होते हैं। ऐसा लगता है जैसे रोज सुबह उठकर आत्महत्या करने जा रहे हैं परन्तु उसका एक अलग ही मजा है।’ धर्मेश कहते हैं, ‘इस शो में कोई भी तैयारी काम नहीं आती है । इसके साथ ही कोई सोचने और समझने का वक्त नहीं मिलता, बस सीधे जाकर भिड़ना होता है।‘

अपने सबसे बड़े डर के बारे में बताते हुए धर्मेश कहते हैं, ‘शो में मेरा अमृता के साथ एक स्टंट था जिसमें एक हेलीकॉप्टर पर एक सोफा लटकाया गया था। इसके साथ ही मुझे नीचे से उस सोफे पर चढ़ना था और उस पर लगे सभी झंडों को इकट्ठा करना था।

 

वहीं झंडे इकट्ठे करने के बाद मुझे बिना सुरक्षा के पानी में कूदना था। वहीं यह टास्क मेरे लिए बहुत मुश्किल था।’ इसके साथ ही शो के होस्ट रोहित शेट्टी से धर्मेश पहली बार ‘खतरों के खिलाड़ी’ के सेट पर ही मिले। वह कहते हैं, ‘रोहित सर की सोच बहुत ही सकारात्मक है। वहीं हर प्रतियोगी को वह कुछ ऐसे शब्दों से प्रेरित करते हैं कि बुरे से बुरा खिलाड़ी भी टास्क में अच्छा प्रर्दशन कर सकता है।‘

Related Articles