विधायक राजेश मिश्रा का बयान साक्षी प्रकरण मेरा राजनीतिक करियर खत्म करने की साजिश

लखनऊ:जनता के बीच हमेशा रहने वाले बरेली के बिथरी चैनपुर से भारतीय जनता के विधायक बेटी साक्षी मिश्रा के प्रेम विवाह से काफी व्यथित हैं। कई दिनों के बाद गुरुवार को कुछ लोगों से बात करने वाले राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल ने कहा अब घर से बाहर निकलने का मन ही नहीं करता।

राजेश मिश्रा ने कहा- बेटी के लिए क्या बोलूं, मैं उस पर कोई टिप्पणी करना नहीं चाहता हूं। इस घटना को याद करना ही मेरे पूरे परिवार के लिए दुखद है। साक्षी मिश्रा और अजितेश कुमार की लव मैरिज के बाद से ही विधायक के बारे में चारों तरफ उनकी दबंगई की चर्चा छिड़ी। इस पूरे प्रकरण पर उन्होंने अक्सर अपनी सफाई ही पेश की। कल विधायक पिता ने पहली बार इस पर अपनी चुप्पी तोड़ी। साक्षी मिश्रा के पिता विधायक राजेश मिश्रा की बातचीत में उनका दर्द छलक आया और उन्होंने कहा कि मैं घर से बाहर नहीं निकलना चाहता हूं। मेरी भावनाएं आहत हुई हैं। इस प्रकरण के बाद मेरा पूरा परिवार सदमे में है।

विरोधियों पर साजिश का आरोप

बेटी साक्षी मिश्रा के घर छोड़कर जाने और अजितेश से शादी कर लेने के बाद कई दिन तक इस मुद्दे पर चुप रहने वाले भारतीय जनता पार्टी के विधायक राजेश मिश्रा ऊर्फ पप्पू भरतौल ने राजनीतिक विरोधियों पर साजिश का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि इस बात का फायदा उठा कर कुछ नेताओं और अधिकारियों की लॉबी ने मेरी छवि खराब करने की कोशिश की है। यह सब कार्य मेरा राजनीतिक करियर खत्म करने के लिए किया गया है। उन्होंने कहा कि विरोधियों ने आग में घी डालने का काम किया। अजितेश को मेरे परिवार के खिलाफ बोलने के लिए उकसाया, छवि खराब करने की कोशिश की गई। मुझे विधायक होने के चलते अभी तो विधानसभा सत्र में होना चाहिए था लेकिन मैं घर से भी बाहर नहीं निकलना चाहता हूं। इससे मेरी भावनाएं आहत हुई हैं। मिश्रा ने कहा कि विधायक के नाते मुझे विधानसभा के चालू सत्र में सहभागिता करनी चाहिए थी, लेकिन मैं कहीं बाहर नहीं जाना चाहता।

उन्होंने इस पूरी घटना के पीछे विरोधियों का हाथ बताते हुए कहा कि अजितेश को मेरे परिवार के खिलाफ बोलने के लिए उकसाया गया। इस मामले में गौरव अरमान के साथ ही दो वरिष्ठ नेता अजितेश और उसके परिवार की सहायता कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब साक्षी घर छोड़ कर गई तो उस समय उसके साथ घर पर मेरी छोटी बेटी थी। छोटी बेटी सो रही थी और साक्षी चली गई। मैं लखनऊ से बरेली लौट रहा था और बेटा दिल्ली के एम्स अस्पताल गया हुआ था।

राजेश मिश्रा ने बताया तीन जुलाई को जब साक्षी ने घर छोड़ा था, उस समय दो युवक घर आए थे, जो गौरव के संपर्क में थे। इसके एक दिन बाद साक्षी और अजितेश पर वीडियो रिकॉर्ड करने का दबाव बनाया गया। राजेश मिश्रा ने बताया कि गौरव अरमान कभी उनके साथ व्यवसाय करता था। जब उसने धोखा दिया तो मैंने उससे दूरी बना ली थी। इसके बाद वो मेरे विरोधियों के साथ मिल गया। उसकी आपराधिक पृष्ठभूमि रही है। मिश्रा ने बताया कि गौरव मेरी हत्या की योजना बना रहा था। इसकी एक ऑडियो रिकॉर्डिंग उसके पुराने साथी ने पुलिस को उपलब्ध करवाई है, अब मैं पुलिस जांच के नतीजों का इंतजार कर रहा हूं।

बेटी पर बनाया विडियो रिकॉर्ड करने का दबाव

बेटी साक्षी मिश्रा का वीडियो वायरल होने की बात पर भाजपा विधायक ने कहा कि एक नौकरशाह की पत्नी ने साक्षी पर वीडियो रिकॉर्ड करने का दबाव बनाया था। महिला ने राजनीतिक महत्वाकांक्षा के चलते साक्षी को मेरे और परिवार के खिलाफ बोलने के लिए उकसाया गया। मैंने साक्षी को कुछ भी नहीं बोला था तो फिर वह वीडियो क्यों बनाया गया और उसे मीडिया में क्यों दिया गया।

Related Articles