अमेज़न के फॉर्मर भारतीय एक्जीक्यूटिव पर लोन Fraud का केस दर्ज, मिली दो साल की सजा

टेक्सास : भारतीय मूल के टेक एक्जीक्यूटिव को अमेरिका में दो साल कैद की सजा सुनाई गई है। इस मसले के जानकारों के मुताबिक अड़तालीस साल के मुकुंद मोहन को अमेरिका में कोविड राहत कोष में Fraud और गलत डॉक्यूमेंट से लोन लेने के मामले में यह सजा सुनाई गई है।

फ़र्ज़ी कंपनी और Fraud डाक्यूमेंट्स से लोन किया था अप्लाई

मामले के जानकारों के मुताबिक मुकुंद ने 1.8 मिलियन अमरीकी डालर यानी 13 करोड़ रुपये धोखे का लोन लिया था। माइक्रोसॉफ्ट और ऐमेजॉन जैसी मशहूर फर्म्स में काम कर चुके मुकुंद मोहन ने अपने नौकरी के गलत डॉक्यूमेंट पेश कर लोन लिया। जानकारी के मुताबिक यह लोन अमेरका के के पेचेक प्रोटेक्शन प्रोग्राम के तहत दिए गए थे। मसले के जानकारों के मुताबिक मुकुंद ने जाली दस्तावेज़ों से साढ़े पांच मिलियन यु एस डॉलर लोन अप्लाई किया था, जिसमे से 1 .8 मिलियन मुकुंद को ट्रांसफर कर दिया गया था। बाकि पैसा क्रेडिट होने से पहले मुकुंद का भंडा फूट गया।

मोहन ने 2019 में महेंजो नाम की एक कम्पनी को खरीदा था। लोन के आवेदन में उसने दर्शाया था की उसकी कम्पनी  दर्जनों कर्मचारियों के वेतन और पेरोल टैक्स का लाखों डॉलर में पेमेंट कर रही है। जबकि जाँच में पता चला की मुकुंद की कम्पनी में न तो कोई कर्मचारी था और न ही कंपनी कोई व्यावसायिक गतिविधि कर रही थी। जाँच में पता चल की कंपनी को लोन अप्रूवल और टैक्स में छूट के लिए बनाया गया था।

यह भी पढ़ें : तालिबान का फ़न कुचलने के लिए भारतीय सेना तैयार : CDS जनरल रावत

Related Articles