उत्तर प्रदेश में आज रात से फिर लॉकडाउन, तीन दिन सब कुछ रहेगा बंद

लखनऊ: कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार मे राज्य में फिर से लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। यह लॉकडाउन शुक्रवार रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक लागू रहेगा। इस दौरान आवश्यक सेवाओं को छोड़कर बाकी सब तीन दिनों के लिए बंद रखने का आदेश दिया गया है। बता दें कि प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा 31 हजार पार कर चुका है। अब तक 862 लोगों की जान जा चुकी है। राज्य में जैसे-जेसे कोराना जांच का दायरा बढ़ रहा है, संक्रमितों का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है।

कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों ने उत्तर प्रदेश को फिर लॉकडाउन वाली स्थिति में लाकर खड़ा किया है। एक दिन के जनता कर्फ्यू की तरह ही यूपी की योगी सरकार ने अनलॉक-2 के बीच ही तीन दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। शुक्रवार रात दस बजे से 13 जुलाई की सुबह पांच बजे तक के लिए सभी कार्यालय, हाट, बाजार व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद करने के आदेश मुख्य सचिव आरके तिवारी ने जारी किए हैं।

अनलॉक-1 और 2 में सरकार ने तमाम रियायतें दे दीं, जिसके बाद से कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इस बार फिर से पहले की तरह लॉकडाउन के चल रहे कयासों के बीच शासन ने गुरुवार को तीन दिन के लॉकडाउन के आदेश जारी कर दिए। हालांकि, इस बार कोरोना संक्रमण के साथ ही संचारी रोगों से बचाव की बात भी कही गई है। 10, 11 और 12 जुलाई स्वच्छता और सैनिटाइजेशन के प्रदेशव्यापी अभियान के निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही जारी कर चुके हैं। माना यह जा रहा है कि यदि संक्रमण की रफ्तार नहीं रुकी तो पहले की तरह तीन दिन के इस ट्रायल के बाद फिर से लॉकडाउन को लंबी अविध के लिए लागू किया जा सकता है। हालांकि, इस संबंध में अभी अधिकारिक रूप से कोई कहने को तैयार नहीं है।

प्रभावित न हो कामकाज : योगी सरकार ने 55 घंटे के प्रतिबंध के लिए ऐसा समय चुना है, जब खास तौर पर सरकारी कामकाज प्रभावित न हो। शुक्रवार की रात 10 बजे से प्रतिबंध लगना है। इसके बाद माह के द्वितीय शनिवार और रविवार का अवकाश सभी सरकारी कार्यालयों में रहना ही है। सोमवार को सुबह पांच बजे तक गतिविधियों पर रोक रहेगी, उसके बाद स्थिति सामान्य कर दी जाएगी। इसी बीच स्वच्छता और सैनिटाइजेशन का अभियान पूरा कर लिया जाएगा।

अभियान की निगरानी को जिलों में भेजे नोडल अफसर : तीन दिन के स्वच्छता और सैनिटाइजेशन के अभियान को लेकर सरकार बेहद गंभीर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई बार खुद इसकी तैयारियों की समीक्षा कर चुके हैं। साथ ही गुरुवार को मुख्य सचिव आरके तिवारी ने नोडल अधिकारियों की तैनाती के संबंध में आदेश जारी कर दिए। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के प्रबंध देखने के लिए हर जिले के लिए शासन के वरिष्ठ अधिकारियों को नोडल अधिकारी के रूप में जिम्मेदारी मिली हुई है। मुख्य सचिव ने कहा है कि यह सभी नोडल अधिकारी तीन दिवसीय अभियान की निगरानी के लिए गुरुवार शाम या शुक्रवार सुबह तक संबंधित जिलों में पहुंच जाएंगे। भ्रमण कर अभियान की निगरानी करेंगे और 12 जुलाई की शाम तक वहीं रहेंगे।

Related Articles