आगामी त्योहारों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइंस,जानिए क्या है नए रूल

केंद्रिय स्वास्थ्य मंत्रायल ने कहा है कि होली, शब-ए-बारात, गुड फ्राइडे और ईद-उल-फित्र के मौके पर सार्वजानिक जगहों पर भीड़ को रोकने के लिए स्थानीय स्तर पर सख्त कदम उठा सकते है।

नई दिल्ली: कोरोना के बढ़ते नए मामलों ने केंद्र और राज्य सरकारों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। आगामी त्योहारों को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अलर्ट रहने को कहा है। उत्तर प्रदेश की सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच होली के पर्व से पहले एक गाइडलाइंस जारी की है। जिसमें बिना अनुमति किसी भी तरह के जुलूस निकालने पर रोक लगा दिया है। गाइडलाइन के मुताबिक जुलूस प्रशासन से अनुमति के बाद ही आयोजित कर सकते है। साथ ही 10 साल से कम बच्चे और 60 साल से जादा उम्र के व्यक्तियों को जुलूस में शामिल होने की अनुमति नहीं है।

कोरोना के बढ़ते मामलों और आगामी त्योहारों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों को चिठ्टी लिखकर भीड़ कम करने के लिए सख्त कदम उठाने को कहा है। चिठ्टी लिखते हुए केंद्रिय स्वास्थ्य मंत्रायल ने यह भी कहा है कि होली, शब-ए-बारात, गुड फ्राइडे और ईद-उल-फित्र के मौके पर सार्वजानिक जगहों पर भीड़ को रोकने के लिए स्थानीय स्तर पर सख्त कदम उठा सकते है।

जानिए क्या है गाइडलाइंस

  • कोई भी जुलूस बिना अनुमति के आयोजित नहीं किये जा सकेंगे। जुलूस प्रशासन से अनुमति लेने के बाद ही जुलूस आयोजित किया जा सकेगा।
  • जुलूस के दौरान भी लोगों को सोशल डिस्टेंसिन का पालन करना पडे़गा और साथ ही साथ मास्क लगाना और सेनेटाइजर का उपयोग करना अनिवार्य है।
  • जुलूसों और सार्वजनिक कार्यक्रमों में 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों,10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों और गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों को शामिल होने की अनुमति नहीं होगी।
  • देश के जिन राज्यों में कोरोना का सक्रंमण अधिक है, वहां से होली के त्यौहार के लिए घर आ रहे लोगों को कोविड-19 की जाचं काराना अनिवार्य होगा।
  • राज्य में सभी स्कूल-कॉलेज में 24 मार्च से 31 मार्च तक होली का अवकाश रहेगा। अन्य शिक्षण संस्थान (मेडिकल तथा नर्सिंग कॉलज छोड़कर) में दिनाकं 25 से 31 मार्च तक के मध्य होली का अवकाश घोषित करेंगे। लेकिन जहां परीक्षाएं चल रही होंगी वहां परिक्षाएं जारी रहेंगी।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक ग्राम पंचायत पर और शहरों में प्रत्येक वार्ड स्तर पर एक-एक नोडल अधिकारी की तैनाती की जाएगी। ग्राम निगरानी समिति के माध्यम से यह सुनिच्क्षित करेंगे कि बाहर से आने वाले लोग अनिवार्य रूप से जाचं करायें और रिपोर्ट आने तक घर में ही रहें।
  • रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डों, बस अड्डों पर राज्यों से लौट रहे लोगों की कोरोना जाचं की जाएगी।

यह भी पढ़ें: 1 अप्रैल से इतने साल से अधिक उम्र के नागरिक लगवा सकते हैं Vaccine

इस खबर को हमारी इंटर्न राशी चंदेल ने लिखी है।

Related Articles

Back to top button