इराक की पहाड़ी पर मिले भगवान राम के भित्तिचित्र, जिसे देख अच्छे-अच्छे…

0

भारतीय प्रतिनिधिमंडल को इराक में ईसा पूर्व दो हजार के भित्तिचित्र मिले हैं। यानी आज से करीब चार हजार साल पहले इन्हें बनाया गया होगा। जून में इराक गए प्रतिनिधि मंडल ने देखा कि भित्ति चित्र में एक राजा को दिखाया गया है, जो धनुष पर बाण का संधान किए हुए है। उसकी बेल्ट में एक खंजर लगा है। इसी चट्टान में एक और छवि भी है, जिसमें एक शख्स हाथ मुड़े हुए दिख रहा है।

इराक के होरेन शेखान क्षेत्र में संकरे मार्ग से गुजरने वाले रास्ते पर ये भित्तिचित्र दरबंद-ई-बेलुला चट्टान में बने मिले हैं। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक योगेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि ये भगवान हनुमान की छवि है। वहीं, इराकी विद्वानों का कहना है कि ये भित्तिचित्र पहाड़ी जनजाति के प्रमुख टार्डुनी का है। इसी तरह की कलाकारी इराक के अन्य हिस्सों में भी है, जहां राजा और घुटने पर बैठे अनुयायी हैं, जिन्हें कैदी माना जाता है।

संस्कृति विभाग के अंतर्गत आने वाले अयोध्या शोध संस्थान के अनुरोध पर भारतीय राजदूत प्रदीप सिंह राजपुरोहित के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल इराक गया था। इस अभियान में एब्रिल वाणिज्य दूतावास में भारतीय राजनयिक चंद्रमौली कर्ण, सुलेमानिया विश्वविद्यालय के इतिहासकार और कुर्दिस्तान के इराकी गवर्नर भी शामिल हुए थे। प्रदीप सिंह का दावा है कि इन चित्रों से पता चलता है कि भगवान राम सिर्फ कहानियों में नहीं थे क्योंकि ये निशान उनके प्रत्यक्ष प्रमाण हैं।

loading...
शेयर करें