लखनऊ : केमिकल फैक्ट्री में धमाका, मजदूर की मौत, चार महिलाएं घायल

लखनऊ के चिनहट में स्वरूप केमिकल्स प्रा. लि. में शुक्रवार रात करीब नौ बजे अचानक धमाका हुआ। यह धमाका उस समय हुआ जब फैक्ट्री के अंदर बॉयलर में दो रसायन मिलाये जा रहे थे। इसकी चपेट में आने से एक मजूदर की मौत हो गई जबकि कुछ दूरी पर मौजूद चार महिलाएं घायल हो गई। वहीं आस पास के करीब आधा दर्जन मकानों की छतें और दीवारें दरक गई।

इस बीच ही प्रशासन और पुलिस के अफसरों को फैक्ट्री के आपरेटरों ने बताया कि बॉयलर के वाल्व से रिसाव हो सकता है। इस पर एडीएम ट्रांसगोमती ने आस पास रहने वाले करीब 55 लोगों को एक बारात घर में रुकवा दिया। देर रात तक श्रम विभाग, चिनहट पुलिस के अलावा प्रशासन के लोग वहां मौजूद रहे। प्रशासन ने बॉयलर के फटने से इनकार करते हुए वाल्व में गड़बड़ी आने पर धमाका होने की बात कही है।

ऐशबाग निवासी विशाल की इस फैक्ट्री में करीब नौ बजे धमाका होते ही आस पास हड़कम्प मच गया था। लोगों की सूचना पर बिजली काट दी गई। इससे बचाव कार्य अंधेरे में ही होता रहा। कुछ देर में ही फायर ब्रिगेड, एडीएम ट्रांसगोमती विश्वभूषण मिश्र, एसीपी स्वतंत्र कुमार सिंह और श्रम विभाग की टीम वहां पहुंच गई। पता चला कि फतेहपुर निवासी मजदूर शेरू धमाके वाले स्थान पर थे। इस वजह से वह गम्भीर रूप से घायल हो गए थे। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई। वहीं दमकलकर्मियों ने किसी तरह अंदर जाकर स्थिति पर काबू पाया। इस घटना की सूचना मिलते ही फैक्ट्री मैनेजर सुरेश कुमार अपने कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंच गए थे।

रसायन मिलाते समय हुआ हादसा
एडीएम विश्वभूषण के मुताबिक श्रमिकों ने बताया कि रात में रसायन हाईड्रोजन पराक्साइड और सल्फयूरिक एसिड का मिश्रण तैयार किया जा रहा था। इसी दौरान धमाका हो गया था। इससे बॉयलर फटा नहीं था लेकिन वाल्व में गड़बड़ी आ गई थी। इन लोगों ने यह भी कहा कि अगर बॉयलर फट जाता तो यह हादसा बड़ा हो जाता। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि धमाका इतनी तेज था कि कुछ देर तक तो उनके कान ही सुन्न हो गए थे। बाद में इलाके में चीख पुकार मच गई थी।

महिलाएं खतरे से बाहर
इस हादसे में घायल सकीना, साबिरा, अमीना और शूभी को अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बतायी जा रही है। इनमें दो महिलाएं गर्भवती है जिसके कारण उनकी कई जांच भी अस्पताल प्रशासन ने करवायी।

गैस रिसाव से इनकार-एडीजी
एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि इस घटना में गैस रिसाव नहीं हुआ है। एसडीआरएफ की टीम भी पहुंच गई थी। सब कुछ सामान्य है। एहतियात के तौर पर पुलिस व प्रशासन के अधिकारी मौके पर मौजूद है।

Related Articles