जिसे 10 राज्यों की पुलिस ढूंढती रही उसे लखनऊ पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें इसके कारनामे

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस (Uttar pradesh) के साइबर सेल के हाथ बड़ी सफलता लगी है। सोमवार को लखनऊ साइबर सेल (Lucknow cyber cell) ने देश के सबसे बड़े साइबर ठगों में से एक प्रमोद मंडल को गिरफ्तार किया है। 10 राज्यों से 29 साइबर मामलों के वांछित चल रहा सरैयाहाट के बंदरी निवासी शातिर साइबर अपराधी प्रमोद मंडल वांटेड था जो धरा गया। प्रमोद की तलाश कई राज्यों की पुलिस फोर्स कर रही थी लेकिन राजधानी लखनऊ (Lucknow) के हजरतगंज थाने की पुलिस ने उसे कड़ी मेहनत से गिरफ्तार कर लिया है।

साइबर सेल ने प्रमोद मंडल के साथ राजेश करन और मनोज सहित पांच साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है। प्रमोद मंडल पर झारखंड, बिहार, यूपी, मध्यप्रदेश, दिल्ली, पंजाब समेत कई राज्यों में 3 दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। प्रमोद झारखंड के दुमका का रहने वाला है, वो लखनऊ की जेल में बंद अपने पिता और चाचा से मिलने आया था तभी पुलिस ने उसे गोसाईगंज इलाके से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस उसे लंबे समय से खोज रही थी।

पिछले साल इसी ने सचिवालय से रिटायर्ड क्लर्क के खाते से 53 लाख रुपये की बड़ी रकम उड़ाई थी। प्रमोद मंडल खुद दूसरों को ठगता साथी ही औरों को भी पैसों का लालच देकर इस काम में लगाता था। दुमका में प्रमोद मंडल लोगों के बैंक खातों से रकम उड़ाने के साथ दूसरे साइबर अपराधियों को भी ट्रेनिंग देता था। इतना ही नहीं प्रमोद मंडल ने ठगी से कमाए करोड़ों रुपए के लेनदेन के लिए दिल्ली में अकाउंटेंट तक रखा था। लखनऊ साइबर सेल ने दिल्ली के अकाउंटेंट को भी गिरफ्तार किया है।

Related Articles